हंसा मेहता  

हंसा मेहता
हंसा मेहता
पूरा नाम हंसा मेहता
जन्म 3 जुलाई, 1897
जन्म भूमि सूरत, गुजरात
मृत्यु 4 अप्रॅल, 1995
अभिभावक पिता- मनुभाई मेहता
पति/पत्नी जीवराज मेहता
नागरिकता भारतीय
प्रसिद्धि समाजसेवी, स्वतंत्रता सेनानी और शिक्षाविद
आंदोलन सविनय अवज्ञा आन्दोलन
जेल यात्रा 1930 और 1932 ई. में दो बार जेल गईं
पुरस्कार-उपाधि पद्म भूषण (1959)
अन्य जानकारी महिलाओं की समस्याओं के समाधान के लिए प्रयत्नशील हंसा मेहता ने जेनेवा के 'अंतर्राष्ट्रीय महिला सम्मेलन' में भारत का प्रतिनिधित्व किया।

हंसा मेहता (अंग्रेज़ी: Hansa Mehta, जन्म: 3 जुलाई, 1897; मृत्य: 4 अप्रॅल, 1995) एक समाजसेवी, स्वतंत्रता सेनानी और शिक्षाविद के रूप में भारत में काफ़ी प्रसिद्ध रही हैं। इनके पिता मनुभाई मेहता बड़ौदा और बीकानेर रियासतों के दीवान थे। हंसा मेहता का विवाह देश के प्रमुख चिकित्सकों में से एक तथा गाँधी जी के निकट सहयोगी जीवराज मेहता जी के साथ हुआ था।

शिक्षा

हंसा मेहता का जन्म 3 जुलाई, 1897 ई. को हुआ था। हंसा की शिक्षा आरम्भ में बड़ौदा में हुई। 1919 में वे पत्रकारिता और समाजशास्त्र की उच्च शिक्षा के लिए इंग्लैण्ड चले गईं। वहाँ उनका परिचय सरोजनी नायडू और राजकुमारी अमृत कौर से हुआ। इसी परिचय का प्रभाव था कि आगे चलकर हंसा मेहता ने स्वतंत्रता संग्राम में भी भाग लिया।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=हंसा_मेहता&oldid=632145" से लिया गया