लाला दुनीचंद  

लाला दुनीचंद
लाला दुनीचंद
पूरा नाम लाला दुनीचंद
जन्म 1873
जन्म भूमि अंबाला
मृत्यु 1965
नागरिकता भारतीय
धर्म हिंदू
आंदोलन असहयोग आंदोलन, सविनय अवज्ञा आंदोलन और भारत छोड़ो आंदोलन
जेल यात्रा आंदोलनों में भाग लेने के कारण कई बार जेल की सजाएं भोगी।
विद्यालय क्रिश्चियन कॉलेज, लाहौर
शिक्षा स्नातक
अन्य जानकारी लाला दुनीचंद की गणना 1920 से 1947 तक पंजाब के प्रमुख कांग्रेसजनों में होती थी।

लाला दुनीचंद (अंग्रेज़ी: Lala Dunichand, जन्म: 1873, अंबाला; मृत्यु: 1965) पंजाब के स्वतंत्रता सेनानी और वकील थे। उन पर लाला लाजपत राय और स्वामी दयानंद के विचारों का गहरा प्रभाव पड़ा, जिससे वे आर्य समाजी बन गए। आंदोलनों में भाग लेने के कारण वह कई बार जेल गये।[1]

परिचय

लाला दुनीचंद का जन्म 1873 में अंबाला के पटियाला रियासत में एक ग़रीब परिवार में हुआ था। उनकी शिक्षा पटियाला और लाहौर में हुई और शिक्षा पूरी करके उन्होंने अंबाला में वकालत आरम्भ की। इसी बीच वे लाला लाजपत राय के संपर्क में आए और स्वामी दयानंद के विचारों से प्रभावित होकर आर्य समाजी बन गए।

राजनीतिक जीवन

1920 में जब गाँधी जी ने असहयोग आंदोलन आरंभ किया तो लाला दुनीचंद ने अपनी चलती वकालत छोड़ दी और भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस में सम्मिलित हो गए। असहयोग आंदोलन में भाग लेने के कारण 1922 में उन्हें गिरफ़्तार कर लिया गया। कुछ कांग्रेसजनों द्वारा स्वराज पार्टी का गठन करने पर वे उसमें सम्मिलित हो गए और उसके टिकिट पर केंद्रीय असेम्बली के सदस्य चुने गए। 1930 के सविनय अवज्ञा आंदोलन में फिर उन्हें गिरफ़्तार कर लिया गया। बाद में वे पंजाब प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष निर्वाचित हुए और कांग्रेस कार्य समिति के सदस्य भी नामजद हुए। 1937 के निर्वाचन में वे पंजाब असेम्बली के सदस्य चुने गए। 1920 से 1947 तक उनकी गणना पंजाब के प्रमुख कांग्रेसजनों में होती थी।

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=लाला_दुनीचंद&oldid=622825" से लिया गया