कृष्णमोहन बनर्जी  

कृष्णमोहन बनर्जी बंगाल में 1828 ई. में प्रारम्भ किये गए यंग बंगाल आन्दोलन के प्रवर्तक 'हेनरी विविनय डेरोजियो' (1809-1831 ई.) के प्रारम्भिक शिष्यों में से एक थे तथा हिन्दू कॉलेज के आदर्श स्नातक थे। इनका जन्म कलकत्ता (वर्तमन कोलकाता) के एक ब्राह्मण परिवार में हुआ था।

  • कृष्णमोहन बनर्जी पश्चिम के बुद्धिवाद प्रभाव से बहुत अधिक प्रभावित थे।
  • इस प्रभाव के कारण ही इन्होंने अपना पैतृक हिन्दू धर्म छोड़ दिया और ईसाई बन गये।
  • अपने जीवन के अन्तिम दिनों में वे पादरी बन गये थे।
  • कृष्णमोहन बनर्जी एक मान्य शिक्षाविद् एवं पत्रकार भी थे।
  • अपने समय के राजनीतिक आन्दोलनों में भी वे भाग लेते थे।
  • इन्हें इण्डियन एसोसिएशन का प्रथम मन्त्री नियुस्त किया गया था।
  • ये कलकत्ता विश्वविद्यालय के सीनेट के प्रारम्भिक सदस्यों में से एक थे।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=कृष्णमोहन_बनर्जी&oldid=263560" से लिया गया