एच.के. दुआ  

एच. के. दुआ

एच. के. दुआ देश के एक जाने-माने पत्रकार हैं। इन्हें राज्य सभा के सांसद के रूप में भी प्रसिद्धि प्राप्त है। वर्तमान समय में ये 'जिंदल पुरस्कार' प्रदान करने वाले निर्णायक मंडल में एक सदस्य हैं।[1] एच.के. दुआ को पत्रकारिता के क्षेत्र में अपने उत्कृष्ट योगदान के लिए वर्ष 2011 का 'लोकमान्य तिलक राष्ट्रीय पुरस्कार' प्रदान किया गया है। दुआ देश के वरिष्ठतम पत्रकारों में से हैं और पत्रकारिता का उनका कैरियर चार दशकों का है। उन्हें राजनीतिक और अंतरराष्ट्रीय मामलों का विशेषज्ञ माना जाता है। उन्हें 4 जनवरी को 'लोकमान्य तिलक राष्ट्रीय पुरस्कार' प्रदान किया गया था। महान् स्वतंत्रता सेनानी लोकमान्य तिलक ने 130 साल पहले इसी दिन 'केसरी' की स्थापना की थी।[2]

  • एच.के. दुआ को एक पत्रकार के तौर पर काफ़ी मान-सम्मान मिला है।
  • वे 15 वर्षों से अधिक समय तक विभिन्न अग्रणी समाचारपत्रों के प्रधान संपादक रह चुके हैं।
  • राजनीतिक और अंतराष्ट्रीय मामले उनकी दिलचस्पी का प्रमुख क्षेत्र रहे हैं।
  • ये दो बार 'एडिटर्स गिल्ड ऑफ़ इंडिया' के अध्यक्ष पद पर भी अपनी सेवाएँ दे चुके हैं।
  • भारत के दो प्रधानमंत्रियों के प्रेस सलाहकार के रूप में भी इन्होंने कार्य किया है।
  • एच.के. दुआ को पत्रकारिता के क्षेत्र में उल्लेखनीय सेवाओं के लिए भारत का प्रतिष्ठित सम्मान 'पद्मभूषण' समेत अनेक पुरस्कार मिल चुके हैं।
  • वे राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार मंडल के पूर्व-सदस्य हैं।
  • उन्हें 'कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय' द्वारा डी.लिट की मानद उपाधि से भी विभूषित किया जा चुका है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. जिंदल पुरस्कार, निर्णायक मंडल (हिन्दी) (एच.टी.एम.एल.)। । अभिगमन तिथि: 16 मार्च, 2012।
  2. एचके दुआ को सम्मान (हिन्दी)। । अभिगमन तिथि: 16 मार्च, 2012।

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=एच.के._दुआ&oldid=597699" से लिया गया