श्याम सुंदर  

श्याम सुंदर (जन्म- 18 दिसंबर, 1908, हैदराबाद, मृत्यु- 19 मई, 1975) हिंदी, उर्दू, अंग्रेजी, मराठी और कन्नड़ भाषाओं के जानकार एवं लेखक‍ थे। वे दलित वर्ग के उत्थान के लिए प्रयत्नशील रहे।

परिचय

कई भाषाओं के ज्ञाता एवं दलित वर्ग के उत्थान के लिए जीवन भर संघर्ष करने वाले श्याम सुंदर का जन्म 18 दिसंबर, 1908 ई. को हैदराबाद में हुआ था। उनके पिता रेलवे के कर्मचारी थे। श्याम सुंदर ने उस्मानिया विश्वविद्यालय से कानून की डिग्री ली और उसके बाद मजदूर संघ के काम में लग गए। एक दलित परिवार से होने के कारण श्याम सुंदर दलित वर्ग की सामाजिक कठिनाइयों से भली भांति परिचित थे। वे 1957 से 1961 तक कर्नाटक में विधायक रहे और वहां भी दलितों के उत्थान के लिए प्रयत्न करते रहे। [1]

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. भारतीय चरित कोश |लेखक: लीलाधर शर्मा 'पर्वतीय' |प्रकाशक: शिक्षा भारती, मदरसा रोड, कश्मीरी गेट, दिल्ली |पृष्ठ संख्या: 861 |

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=श्याम_सुंदर&oldid=634176" से लिया गया