देवराज नन्दकिशोर  

देवराज नन्दकिशोर
देवराज नन्दकिशोर
पूरा नाम देवराज नन्दकिशोर
जन्म 1917
जन्म भूमि रामपुर, उत्तर प्रदेश
कर्म भूमि भारत
कर्म-क्षेत्र आलोचक तथा उपन्यासकार]]
मुख्य रचनाएँ 'पथ की खोज', 'छायावाद का पतन', 'सहित्य और संस्कृति', 'अजय की डायरी', 'संस्कृति का दार्शनिक विवेचन', 'प्रतिक्रियाएँ' आदि।
भाषा हिन्दी
प्रसिद्धि आलोचक
नागरिकता भारतीय
अन्य जानकारी देवराज नन्दकिशोर मूलत: चिंतक हैं और उनकी साहित्य-चिंता भी उनकी व्यापक संस्कृति-चिंता के अंतर्गत उपलक्ष्य रूप में ही है। वे मानववादी परम्परा के विचारक हैं।
इन्हें भी देखें कवि सूची, साहित्यकार सूची

देवराज नन्दकिशोर (अंग्रेज़ी: Devraj Nandkishore ; जन्म- 1917, रामपुर, उत्तर प्रदेश) की गणना हिन्दी के प्रतिष्ठित आलोचकों में होती है। वे मूलत: चिंतक हैं और उनकी साहित्य-चिंता भी उनकी व्यापक संस्कृति-चिंता के अंतर्गत उपलक्ष्य रूप में ही है। आलोचना में उनका आग्रह सांस्कृतिक आभिजात्य के अपने विशिष्ट आग्रह और दृष्टिकोण से ही साहित्य को देखने-परखने का है। वे मानववादी परम्परा के विचारक हैं और कृति की बजाय कृतित्व के लिए आवश्यक वातावरण और प्रेरणाओं को स्पष्ट करने में सहज उत्साह अनुभव करते हैं।

जन्म

देवराज नन्दकिशोर का जन्म 1917 ई. में रामपुर, उत्तर प्रदेश में हुआ था। बहुत समय तक आप 'लखनऊ विश्वविद्यालय' के दर्शन विभाग में प्राध्यापक रहे। फिर 'काशी हिन्दू विश्वविद्यालय' में 'उच्चानुशीलन दर्शन केन्द्र' के निदेशक रहे।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. 1.0 1.1 1.2 1.3 हिन्दी साहित्य कोश, भाग-2 |प्रकाशक: ज्ञानमण्डल लिमिटेड, वाराणसी |संकलन: भारतकोश पुस्तकालय |संपादन: डॉ. धीरेन्द्र वर्मा (प्रधान सम्पादक) |पृष्ठ संख्या: 263 |

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=देवराज_नन्दकिशोर&oldid=598408" से लिया गया