रामचन्द्र शुक्ल  

Disamb2.jpg रामचंद्र शुक्ल एक बहुविकल्पी शब्द है अन्य अर्थों के लिए देखें:- रामचंद्र शुक्ल (बहुविकल्पी)
रामचन्द्र शुक्ल
RamChandraShukla.jpg
पूरा नाम आचार्य रामचन्द्र शुक्ल
जन्म 4 अक्टूबर, 1884
जन्म भूमि अगोना, बस्ती ज़िला, उत्तर प्रदेश
मृत्यु 1941 ई.
अभिभावक पं. चंद्रबली शुक्ल
कर्म भूमि वाराणसी
कर्म-क्षेत्र साहित्यकार, लेखक, निबंधकार
मुख्य रचनाएँ 'हिन्दी साहित्य का इतिहास', 'चिंतामणि', 'हिन्दी शब्द सागर', 'नागरी प्रचारिणी पत्रिका'।
विषय यात्रावृत्त, संस्मरण, निबंध
भाषा हिन्दी
विद्यालय मिशन स्कूल, कायस्थ पाठशाला इण्टर कॉलेज
नागरिकता भारतीय
साहित्यिक आंदोलन आलोचनाएँ, काव्य में रहस्यवाद, काव्य में अभिव्यंजनावाद, रस मीमांसा
इन्हें भी देखें कवि सूची, साहित्यकार सूची

रामचन्द्र शुक्ल (अंग्रेज़ी: Ramchandra Shukla, जन्म- 4 अक्टूबर, 1884, बस्ती ज़िला, उत्तर प्रदेश; मृत्यु- 1941 ई. भारत) बीसवीं शताब्दी के हिन्दी के प्रमुख साहित्यकार थे। उनकी द्वारा लिखी गई पुस्तकों में हिन्दी साहित्य का इतिहास प्रमुख है, जिसका हिन्दी पाठ्यक्रम को निर्धारित करने मे प्रमुख स्थान है।

जीवन परिचय

रामचन्द्र शुक्ल जी का जन्म बस्ती ज़िले के अगोना नामक गाँव में सन् 1884 ई. में हुआ था। सन् 1888 ई. में वे अपने पिता के साथ राठ हमीरपुर गये तथा वहीं पर विद्याध्ययन प्रारम्भ किया। सन् 1892 ई. में उनके पिता की नियुक्ति मिर्ज़ापुर में सदर क़ानूनगो के रूप में हो गई और वे पिता के साथ मिर्ज़ापुर आ गये।

शिक्षा

रामचन्द्र शुक्ल जी के पिता ने शिक्षा के क्षेत्र में इन पर उर्दू और अंग्रेज़ी पढ़ने के लिए ज़ोर दिया तथा पिता की आँख बचाकर वे हिन्दी भी पढ़ते रहे। सन् 1901 ई. में उन्होंने मिशन स्कूल से स्कूल फ़ाइनल की परीक्षा उत्तीर्ण की तथा प्रयाग के कायस्थ पाठशाला इण्टर कॉलेज में एफ़.ए. (बारहवीं) पढ़ने के लिए आये। गणित में कमज़ोर होने के कारण उन्होंने शीघ्र ही उसे छोड़कर 'प्लीडरशिप' की परीक्षा उत्तीर्ण करनी चाही, उसमें भी वे असफल रहे। परन्तु इन परीक्षाओं की सफलता या असफलता से अलग वे बराबर साहित्य, मनोविज्ञान, इतिहास आदि के अध्ययन में लगे रहे। मिर्ज़ापुर के पण्डित केदारनाथ पाठक, बदरी नारायण चौधरी 'प्रेमघन' के सम्पर्क में आकर उनके अध्ययन-अध्यवसाय को और बल मिला। यहीं पर उन्होंने हिन्दी, उर्दू, संस्कृत एवं अंग्रेज़ी के साहित्य का गहन अनुशीलन प्रारम्भ कर दिया था, जिसका उपयोग वे आगे चल कर अपने लेखन में जमकर कर सके।

कार्यक्षेत्र

मिर्ज़ापुर के तत्कालीन कलक्टर ने रामचन्द्र शुक्ल को एक कार्यालय में नौकरी भी दे दी थी, पर हैड क्लर्क से उनके स्वाभिमानी स्वभाव की पटी नहीं। उसे उन्होंने छोड़ दिया। फिर कुछ दिनों तक रामचन्द्र शुक्ल मिर्ज़ापुर के मिशन स्कूल में चित्रकला के अध्यापक रहे। सन् 1909 से 1910 ई. के लगभग वे 'हिन्दी शब्द सागर' के सम्पादन में वैतनिक सहायक के रूप में काशी आ गये, यहीं पर काशी नागरी प्रचारिणी सभा के विभिन्न कार्यों को करते हुए उनकी प्रतिभा चमकी। 'नागरी प्रचारिणी पत्रिका' का सम्पादन भी उन्होंने कुछ दिनों तक किया था। कोश का कार्य समाप्त हो जाने के बाद शुक्ल जी की नियुक्ति काशी हिन्दू विश्वविद्यालय में हिन्दी के अध्यापक के रूप में हो गई। वहाँ से एक महीने के लिए वे अलवर राज्य में भी नौकरी के लिये गए, पर रुचि का काम न होने से पुन: विश्वविद्यालय लौट आए। सन् 1937 ई. में काशी हिन्दू विश्वविद्यालय के हिन्दी विभागाध्यक्ष नियुक्त हुए एवं इस पद पर रहते हुए ही सन् 1941 ई. में उनकी श्वास के दौरे में हृदय गति बन्द हो जाने से मृत्यु हो गई।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. पृष्ठ 516, ग्यारहवाँ संस्करण
  2. चिन्तामणि, द्वितीय भाग, पृ. 248
  3. “हिन्दी साहित्य का इतिहास”: रामचन्द्र शुक्ल, भूमिका, पृष्ठ 1

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=रामचन्द्र_शुक्ल&oldid=613396" से लिया गया