राधानाथ राय  

राधानाथ राय
Radhanath-Rai.jpg
पूरा नाम राधानाथ राय
जन्म 27 सितम्बर, 1848
जन्म भूमि बालेश्वर
मृत्यु 17 अप्रैल, 1908
कर्म भूमि भारत
मुख्य रचनाएँ 'चिलिका, 'केदारगौरी', 'चंद्रभागा', 'महायात्रा', 'ऊषा' आदि।
प्रसिद्धि उड़िया कवि तथा साहित्यकार
नागरिकता भारतीय
अन्य जानकारी ये अपने ज़िले में मैट्रिक पास करने वाले पहले व्यक्ति थे।
इन्हें भी देखें कवि सूची, साहित्यकार सूची

राधानाथ राय (अंग्रेज़ी: Radhanath Rai, जन्म- 27 सितम्बर, 1848; मृत्यु- 17 अप्रैल, 1908) उड़िया भाषा-साहित्य के प्रमुख कवि थे। वे ऐसे बंगाली कुल से थे, जो पीढ़ियों से ओडिशा में ही बसा था। उनके काव्यों ने ओड़िया कविता में एक नयी परपरा की सृष्टि की और बीसवीं शताब्दी के लगभग मध्य तक के परवर्ती कवियों को प्रभावित किया। ओड़िया कविता को राधानाथ राय ने नये रूपों, नये विषयों, एक नये उपागम और पूर्वापेक्षा से अधिक उन्मुक्तता के प्रवर्त्तन से समृद्ध किया।

परिचय

राधानाथ राय का जन्म 1848 ई. में बालेश्वर के केदारपुर गाँव में हुआ था। राधानाथ उड़िया भाषा-साहित्य के प्रमुख कवि थे। वे शरीर से दुर्बल थे। उन दिनों उच्च शिक्षा के लिए कोलकाता जाना पड़ता था। स्वास्थ्य के कारण वे मैट्रिक की परीक्षा के बाद कोलकाता नहीं रुक सके। लेकिन एक विशेष बात यह थी कि वे अपने ज़िले में मैट्रिक पास करने वाले पहले व्यक्ति थे। इसलिए उनको अध्यापक की नौकरी सरलता से मिल गई और आगे चलकर वे स्कूलों के डिवीजनल इंस्पेक्टर पद तक पहुँचे।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

शर्मा, लीलाधर भारतीय चरित कोश (हिन्दी)। भारत डिस्कवरी पुस्तकालय: शिक्षा भारती, दिल्ली, पृष्ठ 719।

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=राधानाथ_राय&oldid=623283" से लिया गया