चतुर्भुज औदीच्य  

चतुर्भुज औदीच्य
Blankimage.png
पूरा नाम चतुर्भुज औदीच्य
मुख्य रचनाएँ 'कवित्व' (निबन्ध)
प्रसिद्धि लेखक, निबन्धकार
नागरिकता भारतीय
संबंधित लेख द्विवेदी-युग, साहित्य, रामचन्द्र शुक्ल
रचना-काल 1904 ई.
अन्य जानकारी ऐसा लगता है कि ये उन लेखकों में से थे, जो साहित्य को जीवन का अनिवार्य अंग या व्यापार न बनाकर कभी-कभी लिखते हैं।

चतुर्भुज औदीच्य द्विवेदी युग के निबन्धकार थे। औदीच्य जी का 'कवित्व' नामक निबन्ध बहुप्रशंसित है। इसे ही निबन्धों को ध्यान में रखकर रामचन्द्र शुक्ल ने कविता की भाषा का प्रयोग आलोचना के क्षेत्र में इन्हें अनुचित माना है।

परिचय

चतुर्भुज औदीच्य का रचना-काल 1904 ई. है। यह द्विवेदी युग के निबन्धकार थे। ऐसा लगता है कि ये उन लेखकों में से थे, जो साहित्य को जीवन का अनिवार्य अंग या व्यापार न बनाकर कभी-कभी लिखते हैं। ऐसे लेखक गौण होते हुए भी साहित्य के लिए अपेक्षित वातावरण बनाने में सहायक होते हैं।

लेखन शैली

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. श्रीकृष्णलाल: 'आधुनिक हिन्दी साहित्य का विकास', पृ. 354
  2. 'हिन्दी साहित्य का इतिहास', सप्तम संस्करण, पृ. 595-596
  3. हिन्दी साहित्य कोश भाग-2 |लेखक: डॉ. धीरेन्द्र वर्मा |प्रकाशक: ज्ञानमण्डल लिमिटेड, वाराणसी |संकलन: भारत डिस्कवरी पुस्तकालय |पृष्ठ संख्या: 181 |

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख