श्यामसुन्दर दास  

श्यामसुन्दर दास
Dr. Shyam Sunder Das.jpg
पूरा नाम डॉ.श्यामसुन्दर दास
जन्म 1875 ई.
जन्म भूमि वाराणसी, भारत
मृत्यु 1945 ई.
मृत्यु स्थान भारत
अभिभावक लाला देवी दास खन्ना
कर्म भूमि वाराणसी
कर्म-क्षेत्र अध्यापक, सम्पादक, साहित्यकार, लेखक
मुख्य रचनाएँ 'चन्द्रावली' अथवा 'नासिकेतोपाख्यान', रामचरितमानस, पृथ्वीराज रासो, अशोक की धर्मालिपियाँ, रानी केतकी की कहानी, भाषा पत्र बोध, 'हिन्दी कुसुमावली'
विषय ग्रंथ, पुस्तक, पत्रिका, अनुवाद
शिक्षा स्नातक
उपाधि 'साहित्य वाचस्पति' और काशी हिन्दू विश्वविद्यालय से 'डी.लिट.'
इन्हें भी देखें कवि सूची, साहित्यकार सूची

डॉ.श्यामसुन्दर दास (जन्म- 1875 ई., काशी; मृत्यु- 1945 ई.) ने जिस निष्ठा से हिन्दी के अभावों की पूर्ति के लिये लेखन कार्य किया और उसे कोश, इतिहास, काव्यशास्‍त्र भाषाविज्ञान, अनुसंधान पाठ्यपुस्तक और सम्पादित ग्रन्थों से सजाकर इस योग्य बना दिया कि वह इतिहास के खंडहरों से बाहर निकलकर विश्वविद्यालयों के भव्य-भवनों तक पहुँची।

जीवन परिचय

श्यामसुन्दर दास का जन्म सन् 1875 ई. काशी (वाराणसी) में हुआ था। इनके पूर्वज लाहौर के निवासी थे और पिता लाला देवी दास खन्ना काशी में कपड़े का व्यापार करते थे। इन्होंने 1897 ई. में बी.ए. पास किया था। यह 1899 ई. में हिन्दू स्कूल में कुछ दिनों तक अध्यापक रहे। उसके बाद लखनऊ के कालीचरन स्कूल में बहुत दिनों तक हैडमास्टर रहे। सन् 1921 ई. में काशी हिन्दू विश्वविद्यालय के हिन्दी विभाग के अध्यक्ष पद पर नियुक्त हुए।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. 1.0 1.1 बाबू श्यामसुंदर दास (हिन्दी) राजभाषा हिन्दी। अभिगमन तिथि: 13 अप्रॅल, 2015।

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=श्यामसुन्दर_दास&oldid=626915" से लिया गया