सियारामशरण गुप्त  

सियारामशरण गुप्त
सियारामशरण गुप्त
पूरा नाम सियारामशरण गुप्त
जन्म 4 सितम्बर 1895
जन्म भूमि चिरगांव, झाँसी
मृत्यु 29 मार्च 1963
अभिभावक सेठ रामचरण कनकने
कर्म भूमि भारत
कर्म-क्षेत्र कथा साहित्य
मुख्य रचनाएँ खण्डकाव्य- अनाथ, आर्द्रा, विषाद, दूर्वा दल, बापू; काव्यग्रन्थ- दैनिकी नकुल, जय हिन्द, पाथेय, मृण्मयी तथा आत्मोसर्ग; उपन्यास- अन्तिम आकांक्षा तथा नारी और गोद।
भाषा हिंदी, गुजराती, अंग्रेज़ी और उर्दू भाषा
पुरस्कार-उपाधि 1941 ई. में "सुधाकर पदक'
नागरिकता भारतीय
अन्य जानकारी सियारामशरण गुप्त राष्ट्रकवि मैथिलीशरण गुप्त के छोटे भाई थे।
इन्हें भी देखें कवि सूची, साहित्यकार सूची

सियारामशरण गुप्त (अंग्रेज़ी: Siyaram Sharan Gupt, जन्म: 4 सितंबर, 1895; मृत्यु: 29 मार्च, 1963) हिन्दी के प्रसिद्ध साहित्यकार और राष्ट्रकवि मैथिलीशरण गुप्त के छोटे भाई थे। उन पर गाँधीवाद का विशेष प्रभाव रहा है। इसलिये उनकी रचनाओं में करुणा, सत्य-अहिंसा की मार्मिक अभिव्यक्ति मिलती है। हिन्दी साहित्य में उन्हें एक कवि के रुप में विशेष ख्याति प्राप्त हुई लेकिन एक मूर्धन्य कथाकार के रूप में भी उन्होंने कथा साहित्य में भी अपना स्थान बनाया।

जीवन परिचय

बहुमुखी प्रतिभा के साहित्यकार सियारामशरण गुप्त का जन्म भाद्रपद पूर्णिमा सम्वत् 1952 विक्रमी तद्नुसार 4 सितम्बर 1895 ई. को सेठ रामचरण कनकने के परिवार में मैथिलीशरण गुप्त के अनुज रुप में चिरगांव, झाँसी में हुआ था। प्राइमरी शिक्षा पूर्ण कर घर में ही गुजराती, अंग्रेज़ी और उर्दू भाषा सीखी। सन् 1929 ई. में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी और कस्तूरबा के सम्पर्क में आये। कुछ समय वर्धा आश्रम में भी रहे। सन् 1940 ई. में चिरगांव में ही नेताजी सुभाषचन्द्र बोस का स्वागत किया। वे सन्त विनोबा भावे के सम्पर्क में भी आये। उनकी पत्नी तथा पुत्रों का निधन असमय ही हो गया। मूलत- आप दु:ख वेदना और करुणा के कवि बन गये। साहित्य के आप मौन साधक बने रहे।[1]

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. 1.0 1.1 सियारामशरण गुप्त (हिंदी) (एच.टी.एम.एल) शुभ भारत। अभिगमन तिथि: 7 दिसम्बर, 2012।

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

और पढ़ें
"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=सियारामशरण_गुप्त&oldid=635112" से लिया गया