आमिर अली 'मीर'  

आमिर अली 'मीर' पुलिस विभाग के कर्मचारी थे। हिन्दू-मुस्लिम एकता और गौ रक्षा के प्रबल समर्थकों में आप गिने जाते थे।

  • आमिर अली 'मीर' का जन्म 1930 वि. (लगभग 1873 ई.) में सागर, मध्य प्रदेश में हुआ था।
  • ‘लोभ तें अमीके अहि चढ़यो जात चंद्र पे’ के माध्यम से इनके साहित्यिक जीवन का सूत्रपात हुआ।
  • धीरे-धीरे इनके प्रोत्साहन से देवरी में, जहां यह अवकाश प्राप्त करके रहने लगे थे, 'मीर मंडल कवि समाज' की स्थापना हुई।[1]
  • इनकी रचनाओं के विषय सामान्य जीवन से संबद्ध हैं। खड़ी बोली का स्वरूप भी वैसा ही सरल और सहज है।
  • आमिर मीर की कुछ रचनाओं के नाम इस प्रकार हैं-
  1. ‘बूढ़े का ब्याह’
  2. ‘नीति दर्पण’ की भाषा टीका
  3. ‘सदाचारी बालक'
  • सन 1937 ई. में आमिर अली मीर की रेल से कटकर मृत्यु हो गई।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. हिन्दी साहित्य कोश, भाग 2 |प्रकाशक: ज्ञानमण्डल लिमिटेड, वाराणसी |संकलन: भारतकोश पुस्तकालय |संपादन: डॉ. धीरेंद्र वर्मा |पृष्ठ संख्या: 17 |

संबंधित लेख