कुशवाहा कान्त  

कुशवाहा कान्त
कुशवाहा कान्त
पूरा नाम कुशवाहा कान्त
जन्म 9 दिसम्बर, 1918
जन्म भूमि मिर्जापुर, उत्तर प्रदेश
मृत्यु 29 फ़रवरी, 1952
कर्म भूमि भारत
कर्म-क्षेत्र उपन्यासकार, नाटककार
मुख्य रचनाएँ 'लाल रेखा', 'पारस', 'विद्रोही सुभाष', 'आहुति' आदि।
प्रसिद्धि उपन्यासकार
नागरिकता भारतीय
अन्य जानकारी कुशवाहा कान्त भारत के प्रसिद्ध उपन्यासकार थे। इनकी कृतियाँ 'कुँवर कान्ता प्रसाद' के नाम से प्रकाशित होती थीं।
इन्हें भी देखें कवि सूची, साहित्यकार सूची

कुशवाहा कान्त (जन्म- 9 दिसम्बर, 1918, मिर्जापुर, उत्तर प्रदेश; मृत्यु- 29 फ़रवरी, 1952) भारत के जाने-माने उपन्यासकार थे। इन्होंने 'महाकवि मोची' नाम से कई हास्य नाटकों तथा कविताओं का भी सृजन किया।[1]

  • मिर्जापुर, उत्तर प्रदेश के 'महुवरिया' नामक मोहल्ले में जन्में कुशवाहा कान्त ने नौवीं कक्षा में ही ‘खून का प्यासा’ नामक जासूसी उपन्यास लिखा था।
  • कुशवाहा कान्त की प्रमुख कृतियाँ निम्नलिखित हैं-
  1. लाल रेखा
  2. पपीहरा
  3. पारस
  4. परदेसी (दो भाग)
  5. विद्रोही सुभाष
  6. नागिन मद भरे नैयना
  7. आहुति
  8. अकेला
  9. बसेरा
  10. कुमकुम
  11. मंजिल
  12. नीलम पागल
  13. जलन
  14. लवंग
  15. निर्मोही
  16. अपना-पराया
  • कुशवाहा कान्त की कृतियाँ 'कुँवर कान्ता प्रसाद' के नाम से प्रकाशित होती थीं।
  • 'महाकवि मोची' नाम से अनेक हास्यों नाटकों तथा कविताओं का सृजन इन्होंने किया।
  • 29 फ़रवरी, 1952 को कबीरचौरा के पास गुण्डों ने एक आक्रमण किया, जिसमें कुशवाहा कान्त का निधन हो गया।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. काशी के साहित्यकार (हिन्दी)। । अभिगमन तिथि: 22 जनवरी, 2014।

संबंधित लेख