गोवर्धनराम माधवराम त्रिपाठी  

गोवर्धनराम माधवराम त्रिपाठी
गोवर्धनराम माधवराम त्रिपाठी
पूरा नाम गोवर्धनराम माधवराम त्रिपाठी
जन्म 20 अक्टूबर, 1855
मृत्यु 1 अप्रैल, 1907
कर्म भूमि भारत
कर्म-क्षेत्र गुजराती साहित्य
मुख्य रचनाएँ 'सरस्वतीचंद्र' तथा 'स्नेहामुद्रा' आदि।
विद्यालय 'एल्फिन्स्टन कॉलेज'
शिक्षा बी.ए. तथा एल.एल.बी.
प्रसिद्धि कथाकार, कवि, चिंतक, विवेचक, चरित्र लेखक तथा इतिहासकार
नागरिकता भारतीय
अन्य जानकारी 'सरस्वतीचंद्र' गोवर्धनराम जी की सर्वप्रमुख साहित्यिक कृति है। कथा के क्षेत्र में इसे गुजराती साहित्य का सर्वोच्च कीर्तिशिखर कहा गया है। इसकी कथा चार भागों में समाप्त होती है।
इन्हें भी देखें कवि सूची, साहित्यकार सूची

गोवर्धनराम माधवराम त्रिपाठी (अंग्रेज़ी: Govardhanram Madhavram Tripathi, जन्म- 20 अक्टूबर, 1855; मृत्यु- 1 अप्रैल, 1907) का नाम आधुनिक गुजराती साहित्य में कथाकार, कवि, चिंतक, विवेचक, चरित्र लेखक तथा इतिहासकार इत्यादि अनेक रूपों में मान्य है। उनको सर्वाधिक प्रतिष्ठा द्वितीय उत्थान के सर्वश्रेष्ठ कथाकार के रूप में ही प्राप्त हुई है। जिस प्रकार आधुनिक गुजराती साहित्य की पुरानी पीढ़ी के अग्रणी 'नर्मद' माने जाते हैं, उसी प्रकार उनके बाद की पीढ़ी का नेतृत्व गोवर्धनराम के द्वारा हुआ। संस्कृत साहित्य के गंभीर अनुशीलन तथा रामकृष्ण परमहंस और विवेकानंद आदि विभूतियों के विचारों के प्रभाव से उनके हृदय में प्राचीन भारतीय आर्य संस्कृति के पुनरुत्थान की तीव्र भावना जाग्रत हुई। उनका अधिकांश रचनात्मक साहित्य मूलत: इसी भावना से संबद्ध एवं उद्भूत है।[1]

जन्म तथा शिक्षा

गोवर्धनराम माधवराम त्रिपाठी जी का जन्म 20 अक्टूबर, 1855 ई. में हुआ था। उनकी प्रारंभिक शिक्षा-दीक्षा बंबई (वर्तमान मुम्बई) तथा नडियाद में संपन्न हुई। उन्होंने 1875 ई. में 'एल्फिन्स्टन कॉलेज' से बी.ए. उत्तीर्ण तथा 1883 में वकालत की। शिक्षा समाप्त होते ही उनकी प्रवृत्ति तत्व चिंतन और सामाजिक कल्याण की ओर उन्मुख हुई।

'सरस्वतीचंद्र' की रचना

'सरस्वतीचंद्र' उनकी सर्वप्रमुख साहित्यिक कृति है। कथा के क्षेत्र में इसे गुजराती साहित्य का सर्वोच्च कीर्तिशिखर कहा गया है। आचार्य आनंदशंकर बापूभाई ध्रुव ने इसकी गरिमा और भाव समृद्धि को लक्षित करते हुए इसे 'सरस्वतीचंद्र पुराण' की संज्ञा प्रदान की थी, जो इसकी लोकप्रियता तथा कल्पना बहुलता को देखते हुए सर्वथा उपयुक्त प्रतीत होती है।

'सरस्वतीचंद्र' की कथा चार भागों में समाप्त होती है-

  1. प्रथम भाग में रत्न नगरी के प्रधान विद्याचतुर की सुंदरी कन्या कुमुद और विद्यानुरागी एवं तत्व चिंतक सरस्वतीचंद्र के पारस्परिक आकर्षण की प्रारंभिक मनोदशा का चित्रण है। नायक की यह मान्यता कि 'स्त्री माँ पुरुषना पुरुषार्थनी समाप्ति थती नथी' वस्तुत: लेखक के उदात्त दृष्टिकोण की परिचायक है और आगामी भागों की कथा का विकास प्राय: इसी सूत्रवाक्य से प्रतिफलित होता है।
  2. द्वितीय भाग में व्यक्ति और परिवार के संबंधों का चित्रण भारतीय दृष्टिकोण से किया गया है।
  3. तृतीय भाग में कर्मक्षेत्र के विस्तार के साथ प्राच्य और पाश्चात्य संस्कारों का संघर्ष प्रदर्शित है।
  4. चतुर्थ भाग में लोक कल्याण की भावना से उद्भूत 'कल्याणग्राम' की स्थापना की एक आदर्श योजना के साथ कथा समाप्त होती है।

बीच-बीच में साधु सतों के प्रसंगों को समाविष्ट करके तथा नायक की प्रवृत्ति को आद्योपांत वैराग्य एवं पारमार्थिक कल्याण की ओर उन्मुख चित्रित करके लेखक ने अपने सांस्कृतिक दृष्टिकोण को सफलतापूर्वक साहित्यिक अभिव्यक्ति प्रदान की है।[1]

स्नेहामुद्रा

'स्नेहामुद्रा' गोवर्धनराम की ऊर्मिप्रधान भाव गीतियों का, संस्कृतनिष्ठ शैली में लिखित एक विशिष्ठ कविता संग्रह है जो सन 1889 में प्रकाशित हुआ था। इसमें समीक्षकों की मानवीय, आध्यात्मिक एवं प्रकृति परक प्रेम की अनेक प्रतिभा एक समर्थ काव्य विवेचक के रूप में प्रकट हुई है। विल्सन कॉलेज, साहित्य सभा के समक्ष प्रस्तुत अपने गवेषणपूर्ण अंग्रेज़ी व्याख्यानों के माध्यम से गोवर्धनराम जी ने प्राचीन गुजराती साहित्य के इतिहास को व्यवस्थित रूप से प्रस्तुत करने का प्रथम प्रयास किया। इनका प्रकाशन 'क्लैसिकल पोएट्स ऑफ़ गुजरात ऐंड देयर इनफ्लुएंस ऑन सोयायटी ऐंड मॉरल्स' नाम से हुआ है।

सन 1905 में 'गुजराती साहित्य परिषद' के प्रमुख के रूप में दिये गए अपने भाषण में गोवर्धनराम ने आचार्य आनंदशंकर बापूभाई ध्रुव से प्राप्त सूत्र को पकड़कर नरसी मेहता के काल निर्णय की जो समस्या उठाई, उस पर इतना वादविवाद हुआ कि वह स्वयं ऐतिहासिक महत्व की वस्तु बन गई।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. 1.0 1.1 गोवर्धनराम माधवराम त्रिपाठी (हिन्दी) भारतखोज। अभिगमन तिथि: 21 जुलाई, 2015।
  2. ई. 1906

संबंधित लेख

]
और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=गोवर्धनराम_माधवराम_त्रिपाठी&oldid=609605" से लिया गया