उदय शंकर भट्ट  

उदय शंकर भट्ट
उदय शंकर भट्ट
पूरा नाम उदय शंकर भट्ट
जन्म 1898
जन्म भूमि इटावा, उत्तर प्रदेश
मृत्यु 1969
कर्म भूमि भारत
मुख्य रचनाएँ ‘राका’, ‘मानसी’, ‘विसर्जन’, ‘युग दीप’, ‘दाहर', ‘मुक्तिपथ’, ‘शक विजय’, ’कमला’, ‘अंतहीन’, ‘क्रांतिकारी’, ‘नया समाज’ और 'पार्वती' आदि।
प्रसिद्धि नाटककार और उपन्यासकार
नागरिकता भारतीय
अन्य जानकारी उदय शंकर भट्ट कुछ समय तक लाला लाजपत राय के नेशनल कॉलेज में अध्यापक भी रहे, जहां क्रांतिकारी भगत सिंह उनके छात्र थे।
इन्हें भी देखें कवि सूची, साहित्यकार सूची

उदय शंकर भट्ट (जन्म- 1898, इटावा, उत्तर प्रदेश; मृत्यु- 1969) प्रसिद्ध नाटककार और उपन्यासकार थे। इनके पितामह तथा पिता संस्कृत के विद्वान थे। घर में बातचीत तक संस्कृत में होती थी। इसका प्रभाव उदय शंकर भट्ट पर भी पड़ा। उन्होंने लाहौर में अध्यापन कार्य भी कराया। स्वतंत्रता आंदोलन में भाग लिया तथा आकाशवाणी में परामर्शदाता रहे। उदय शंकर भट्ट ने विपुल साहित्य की रचना की है।[1]

परिचय

नाटककार, कवि और उपन्यासकार उदय शंकर भट्ट का जन्म अपने ननिहाल इटावा, उत्तर प्रदेश में सन 1898 ईसवी में हुआ था। उनके पूर्वज गुजराती थे, जो उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर में आकर बस गए थे।

शिक्षा

भट्ट जी ने काशी हिंदू विश्वविद्यालय, पंजाब और कोलकाता में शिक्षा पाई। वे कुछ समय तक लाला लाजपत राय के नेशनल कॉलेज में अध्यापक भी रहे, जहां क्रांतिकारी भगत सिंह उनके छात्र थे।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. 1.0 1.1 भारतीय चरित कोश |लेखक: लीलाधर शर्मा 'पर्वतीय' |प्रकाशक: शिक्षा भारती, मदरसा रोड, कश्मीरी गेट, दिल्ली |पृष्ठ संख्या: 100-101 |

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=उदय_शंकर_भट्ट&oldid=627579" से लिया गया