यशपाल  

Disamb2.jpg यशपाल एक बहुविकल्पी शब्द है अन्य अर्थों के लिए देखें:- यशपाल (बहुविकल्पी)
यशपाल
Yashpal.jpg
पूरा नाम यशपाल
जन्म 3 दिसम्बर, 1903 ई.
जन्म भूमि फ़िरोजपुर छावनी, पंजाब, भारत
मृत्यु 26 दिसंबर, 1976 ई.
मृत्यु स्थान भारत
अभिभावक हीरालाल, प्रेमदेवी
कर्म भूमि भारत
कर्म-क्षेत्र उपन्यासकार, लेखक, निबंधकार
मुख्य रचनाएँ 'वो दुनिया', 'दिव्या', 'देशद्रोही', 'फूलों का कुर्ता', 'पिंजरे की उड़ान', 'ज्ञानदान' आदि।
विद्यालय गुरुकुल कांगड़ी, नेशनल कॉलेज, लाहौर
पुरस्कार-उपाधि 'देव पुरस्कार' (1955), 'सोवियत लैंड नेहरू पुरस्कार' (1970), 'मंगला प्रसाद पारितोषिक' (1971) तथा 'पद्म भूषण'
इन्हें भी देखें कवि सूची, साहित्यकार सूची

यशपाल (अंग्रेज़ी: Yashpal, जन्म- 3 दिसम्बर, 1903 ई., फ़िरोजपुर छावनी; मृत्यु- 26 दिसंबर, 1976) हिन्दी के यशस्वी कथाकार और निबन्ध लेखक हैं। यशपाल राजनीतिक तथा साहित्यिक, दोनों क्षेत्रों में क्रान्तिकारी हैं। उनके लिए राजनीति तथा साहित्य दोनों साधन हैं और एक ही लक्ष्य की पूर्ति में सहायक हैं।

जीवन परिचय

हिन्दी के यशस्वी कथाकार और निबन्धकार यशपाल का जन्म 3 दिसम्बर, 1903 ई. में फ़िरोजपुर छावनी में हुआ था। इनके पूर्वज कांगड़ा ज़िले के निवासी थे और इनके पिता 'हीरालाल' को विरासत के रूप में दो-चार सौ गज़ तथा एक कच्चे मकान के अतिरिक्त और कुछ नहीं प्राप्त हुआ था। इनकी माँ प्रेमदेवी ने उन्हें आर्य समाज का तेजस्वी प्रचारक बनाने की दृष्टि से शिक्षार्थ 'गुरुकुल कांगड़ी' भेज दिया। गुरुकुल के राष्ट्रीय वातावरण में बालक यशपाल के मन में विदेशी शासन के प्रति विरोध की भावना भर गयी।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=यशपाल&oldid=615939" से लिया गया