अयोध्यासिंह उपाध्याय 'हरिऔध'  

अयोध्यासिंह उपाध्याय 'हरिऔध'
Ayodhya-Singh-Upadhyay.jpg
पूरा नाम अयोध्यासिंह उपाध्याय 'हरिऔध'
अन्य नाम 'हरिऔध'
जन्म 15 अप्रैल, 1865
जन्म भूमि निज़ामाबाद, उत्तर प्रदेश
मृत्यु 16 मार्च, 1947
मृत्यु स्थान निज़ामाबाद, उत्तर प्रदेश
अभिभावक भोलासिंह, रुक्मणि देवी
पति/पत्नी आनंद कुमारी
कर्म भूमि निज़ामाबाद, उत्तर प्रदेश
कर्म-क्षेत्र अध्यापक, लेखक
मुख्य रचनाएँ 'प्रियप्रवास', 'चोखे चौपदे', 'वैदेही बनवास', 'रसिक रहस्य', 'पद्मप्रसून' आदि।
विषय गद्य, पद्य, नाटक तथा उपन्यास
भाषा हिन्दी
शिक्षा क़ानून गो
नागरिकता भारतीय
सृजनकाल भारतेन्दु युग, द्विवेदी युग, छायावादी युग
इन्हें भी देखें कवि सूची, साहित्यकार सूची
अयोध्यासिंह उपाध्याय 'हरिऔध' की रचनाएँ

अयोध्यासिंह उपाध्याय 'हरिऔध' (अंग्रेज़ी: Ayodhyasingh Upadhyay ‘Hari Oudh', जन्म- 15 अप्रैल, 1865, मृत्यु- 16 मार्च, 1947) का नाम खड़ी बोली को काव्य भाषा के पद पर प्रतिष्ठित करने वाले कवियों में बहुत आदर से लिया जाता है। उन्नीसवीं शताब्दी के अन्तिम दशक में 1890 ई. के आस-पास अयोध्यासिंह उपाध्याय ने साहित्य सेवा के क्षेत्र में पदार्पण किया।

परिवार और शिक्षा

अयोध्यासिंह उपाध्याय का जन्म ज़िला आजमगढ़ के निज़ामाबाद नामक स्थान में सन् 1865 ई. में हुआ था। हरिऔध के पिता का नाम भोलासिंह और माता का नाम रुक्मणि देवी था। अस्वस्थता के कारण हरिऔध जी का विद्यालय में पठन-पाठन न हो सका अतः इन्होंने घर पर ही उर्दू, संस्कृत, फ़ारसी, बांग्ला एवं अंग्रेज़ी का अध्ययन किया। 1883 में ये निज़ामाबाद के मिडिल स्कूल के हेडमास्टर हो गए। 1890 में क़ानूनगो की परीक्षा पास करने के बाद आप क़ानून गो बन गए। सन् 1923 में पद से अवकाश लेने पर काशी हिन्दू विश्वविद्यालय में प्राध्यापक बने।[1]

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. काव्यांचल (हिन्दी) (एच.टी.एम.एल)। । अभिगमन तिथि: 23 अक्टूबर, 2010
  2. अनुभूति (हिन्दी) (एच.टी.एम.एल)। । अभिगमन तिथि: 23 अक्टूबर, 2010
  3. हिन्दी साहित्य का इतिहास, पं. सं., पृ. 608)।

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=अयोध्यासिंह_उपाध्याय_%27हरिऔध%27&oldid=623143" से लिया गया