के. कामराज  

(कामराज से पुनर्निर्देशित)


के. कामराज
के. कामराज
पूरा नाम कामाक्षी कुमारस्वामी नादेर
जन्म 15 जुलाई, 1903
जन्म भूमि विरुधुनगर, तमिलनाडु
मृत्यु 2 अक्टूबर, 1975
मृत्यु स्थान चेन्नई, तमिलनाडु
नागरिकता भारतीय
प्रसिद्धि भारतीय राजनीति में के. कामराज 'किंग मेकर' के रूप में जाने जाते थे।
पार्टी भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
पद तमिलनाडु के मुख्यमंत्री, काँग्रेस के अध्यक्ष
कार्य काल मुख्यमंत्री पद (मद्रास एवं तलिमनाडु)

1954 से 1963 तक

जेल यात्रा आज़ादी से पहले ही कामराज कई बार गिरफ्तार हुए और जेल गये।
पुरस्कार-उपाधि भारत रत्न
विशेष योगदान कक्षा 11वीं तक नि:शुल्क तथा अनिवार्य शिक्षा लागू कर दी।
अन्य जानकारी के. कामराज साठ के दशक में 'कांग्रेस संगठन' में सुधार के लिए बनायी गई कामराज योजना के कारण विख्यात हुए।

के. कामराज अथवा कुमारस्वामी कामराज (अंग्रेज़ी: Kumarasami Kamaraj, जन्म- 15 जुलाई, 1903; मृत्यु- 2 अक्टूबर, 1975) दक्षिण भारत के राजनेता थे, जो 'नाडर जाति' से उठकर मद्रास, बाद में तमिलनाडु के मुख्यमंत्री और 'कांग्रेस पार्टी' के अध्यक्ष बने। तमिलनाडु की राजनीति में बिल्कुल निचले स्तर से अपना राजनीतिक जीवन शुरू कर देश के दो प्रधानमंत्री चुनने में महत्वूपर्ण भूमिका निभाने के कारण किंगमेकर कहे जाने वाले के. कामराज साठ के दशक में कांग्रेस संगठन में सुधार के लिए बनायी गई कामराज योजना के कारण विख्यात हुए।

परिचय

के. कामराज के का जन्म 15 जुलाई, 1903 को तमिलनाडु के 'विरुधुनगर' में हुआ था। उनका मूल नाम 'कामाक्षी कुमारस्वामी नादेर' था, लेकिन बाद में वह के. कामराज के नाम से प्रसिद्ध हुए। कामराज के पिता व्यापारी थे, किंतु उनकी असमय मृत्यु ने उनके परिवार को परेशानी में डाल दिया। भारतीय राजनीति में वे 'किंग मेकर' के रूप में जाने जाते थे। 'भारतीय स्वतंत्रता आन्दोलन' में भी उनकी सक्रिय भूमिका रही। भारत के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू के वह अत्यधिक निकट रहे। कामराज अपनी पढ़ाई पूरी नहीं कर पाए। जॉर्ज जोसेफ के नेतृत्व वाले 'वैकम सत्याग्रह' ने उन्हें आकर्षित किया। 16 वर्ष की आयु में ही कामराज कांग्रेस में शामिल हो गए। आज़ादी से पहले ही कामराज कई बार गिरफ्तार हुए और जेल गये। जेल में रहते हुए ही उन्हें 'म्युनिसिपल काउंसिल' का अध्यक्ष चुन लिया गया, किंतु रिहाई के नौ महीने बाद ही उन्होंने पद से त्यागपत्र दे दिया और कहा कि- "किसी को भी तब तक कोई पद स्वीकार नहीं करना चाहिए, जब तक वह उसके साथ पूरा न्याय न कर सके।"

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=के._कामराज&oldid=633012" से लिया गया