ठाकुर रोशन सिंह  

ठाकुर रोशन सिंह
ठाकुर रोशन सिंह
पूरा नाम ठाकुर रोशन सिंह
जन्म 22 जनवरी, 1892
जन्म भूमि शाहजहाँपुर, उत्तर प्रदेश
मृत्यु 19 दिसम्बर, 1927
मृत्यु स्थान नैनी जेल, इलाहाबाद
अभिभावक ठाकुर जंगी सिंह तथा कौशल्या देवी
नागरिकता भारतीय
प्रसिद्धि स्वतन्त्रता सेनानी
जेल यात्रा 'असहयोग आन्दोलन' के दौरान गिरफ़्तार हुए और जेल की सज़ा काटी।
विशेष योगदान गाँधीजी के 'असहयोग आन्दोलन' के समय रोशन सिंह ने उत्तर प्रदेश के शाहजहाँपुर और बरेली ज़िले के ग्रामीण क्षेत्र में अद्भुत योगदान दिया था।
संबंधित लेख रामप्रसाद बिस्मिल, अशफ़ाक़ उल्ला ख़ाँ, राजेन्द्रनाथ लाहिड़ी, असहयोग आन्दोलन
अन्य जानकारी हिन्दू धर्म, आर्य संस्कृति, भारतीय स्वाधीनता और क्रान्ति के विषय में ठाकुर रोशन सिंह सदैव पढ़ते व सुनते रहते थे। ईश्वर पर उनकी आगाध श्रद्धा थी। हिन्दी, संस्कृत, बंगला और अंग्रेज़ी इन सभी भाषाओं को सीखने के वे बराबर प्रयत्न करते रहते थे।

ठाकुर रोशन सिंह (अंग्रेज़ी: Thakur Roshan Singh; जन्म- 22 जनवरी, 1892, शाहजहाँपुर, उत्तर प्रदेश; शहादत- 19 दिसम्बर, 1927, नैनी जेल, इलाहाबाद) भारत की आज़ादी के लिए संघर्ष करने वाले क्रांतिकारियों में से एक थे। 9 अगस्त, 1925 को उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के पास 'काकोरी' स्टेशन के निकट 'काकोरी काण्ड' के अंतर्गत सरकारी खजाना लूटा गया था। यद्यपि ठाकुर रोशन सिंह ने 'काकोरी काण्ड' में प्रत्यक्ष रूप से भाग नहीं लिया था, फिर भी उनके आकर्षक व रौबीले व्यक्तित्व को देखकर डकैती के सूत्रधार रामप्रसाद बिस्मिल, अशफ़ाक़ उल्ला ख़ाँ और राजेन्द्रनाथ लाहिड़ी के साथ उन्हें भी फ़ाँसी की सज़ा दे दी गई।

जन्म तथा परिवार

ठाकुर रोशन सिंह का जन्म 22 जनवरी, 1892 को उत्तर प्रदेश के ख्याति प्राप्त जनपद शाहजहाँपुर में स्थित गांव 'नबादा' में हुआ था। उनकी माता का नाम कौशल्या देवी और पिता का नाम ठाकुर जंगी सिंह था।[1] ठाकुर रोशन सिंह का पूरा परिवार 'आर्य समाज' से अनुप्राणित था। वे अपने पाँच भाई-बहनों में सबसे बड़े थे। जब गाँधीजी ने 'असहयोग आन्दोलन' शुरू किया, तब रोशन सिंह ने उत्तर प्रदेश के शाहजहाँपुर और बरेली ज़िले के ग्रामीण क्षेत्र में अद्भुत योगदान दिया था।

व्यक्तित्व

हिन्दू धर्म, आर्य संस्कृति, भारतीय स्वाधीनता और क्रान्ति के विषय में ठाकुर रोशन सिंह सदैव पढ़ते व सुनते रहते थे। ईश्वर पर उनकी आगाध श्रद्धा थी। हिन्दी, संस्कृत, बंगला और अंग्रेज़ी इन सभी भाषाओं को सीखने के वे बराबर प्रयत्न करते रहते थे। स्वस्थ, लम्बे, तगड़े सबल शारीर के भीतर स्थिर उनका हृदय और मस्तिष्क भी उतना ही सबल और विशाल था।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. 1.0 1.1 ठाकुर रोशन सिंह, भारत के क्रांतिकारी सपूत (हिन्दी)। । अभिगमन तिथि: 17 दिसम्बर, 2013।
  2. 2.0 2.1 रौशनी की मीनार ठाकुर रोशन सिंह (हिन्दी)। । अभिगमन तिथि: 17 दिसम्बर, 2013।

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=ठाकुर_रोशन_सिंह&oldid=616897" से लिया गया