राम मनोहर लोहिया  

राम मनोहर लोहिया
राम मनोहर लोहिया
पूरा नाम राम मनोहर लोहिया
अन्य नाम डॉ. लोहिया
जन्म 23 मार्च, 1910
जन्म भूमि कस्बा अकबरपुर, फैजाबाद
मृत्यु 12 अक्टूबर, 1967
मृत्यु स्थान नई दिल्ली
अभिभावक श्री हीरालाल और श्रीमती चन्दा देवी
नागरिकता भारतीय
प्रसिद्धि राजनीतिज्ञ, स्वतन्त्रता सेनानी
पार्टी कांग्रेस सोशलिस्ट पार्टी
शिक्षा स्नातक, पी.एच.डी. (अर्थशास्त्र)
विद्यालय विश्वेश्वरनाथ हाई स्कूल, मारवाड़ी विद्यालय, काशी हिन्दू विश्वविद्यालय, विद्यासागर महाविद्यालय, हुम्बोल्ट विश्वविद्यालय
भाषा हिन्दी, जर्मनी, अंग्रेज़ी
जेल यात्रा 20 मई, 1944, गोवा मुक्ति आंदोलन
आन्दोलन भारत छोड़ो आन्दोलन
अन्य जानकारी डॉ. लोहिया की चिन्तन-धारा कभी देश-काल की सीमा की बन्दी नहीं रही। विश्व की रचना और विकास के बारे में उनकी अनोखी व अद्वितीय दृष्टि थी। इसलिए उन्होंने सदा ही विश्व-नागरिकता का सपना देखा था।

राम मनोहर लोहिया (अंग्रेज़ी: Ram Manohar Lohia, जन्म- 23 मार्च, 1910, क़स्बा अकबरपुर, फैजाबाद; मृत्यु- 12 अक्टूबर, 1967, नई दिल्ली) भारत के स्वतन्त्रता संग्राम सेनानी, प्रखर चिन्तक तथा समाजवादी राजनेता थे। राम मनोहर लोहिया को भारत एक अजेय योद्धा और महान् विचारक के रूप में देखता है। देश की राजनीति में स्वतंत्रता आंदोलन के दौरान और स्वतंत्रता के बाद ऐसे कई नेता हुए जिन्होंने अपने दम पर शासन का रुख़ बदल दिया जिनमें एक थे राममनोहर लोहिया। अपनी प्रखर देशभक्ति और बेलौस तेजस्‍वी समाजवादी विचारों के कारण अपने समर्थकों के साथ ही डॉ. लोहिया ने अपने विरोधियों के मध्‍य भी अपार सम्‍मान हासिल किया। डॉ. लोहिया सहज परन्तु निडर अवधूत राजनीतिज्ञ थे। उनमें सन्त की सन्तता, फक्कड़पन, मस्ती, निर्लिप्तता और अपूर्व त्याग की भावना थी। डॉ. लोहिया मानव की स्थापना के पक्षधर समाजवादी थे। वे समाजवादी भी इस अर्थ में थे कि, समाज ही उनका कार्यक्षेत्र था और वे अपने कार्यक्षेत्र को जनमंगल की अनुभूतियों से महकाना चाहते थे। वे चाहते थे कि, व्यक्ति-व्यक्ति के बीच कोई भेद, कोई दुराव और कोई दीवार न रहे। सब जन समान हों। सब जन सबका मंगल चाहते हों। सबमें वे हों और उनमें सब हों। वे दार्शनिक व्यवहार के पक्ष में नहीं थे। उनकी दृष्टि में जन को यथार्थ और सत्य से परिचित कराया जाना चाहिए। प्रत्येक जन जाने की कौन उनका मित्र है? कौन शत्रु है? जनता को वे जनतंत्र का निर्णायक मानते थे।

जीवन परिचय

राम मनोहर लोहिया का जन्म कृष्ण चैत्र तृतीया, 23 मार्च 1910 की प्रात: तमसा नदी के किनारे स्थित क़स्बा अकबरपुर, फैजाबाद में हुआ था। उनके पिताजी श्री हीरालाल पेशे से अध्यापक व हृदय से सच्चे राष्ट्रभक्त थे। उनके पिताजी गाँधी जी के अनुयायी थे। जब वे गाँधी जी से मिलने जाते तो राम मनोहर को भी अपने साथ ले जाया करते थे। इसके कारण गाँधी जी के विराट व्यक्तित्व का उन पर गहरा असर हुआ। लोहिया जी अपने पिताजी के साथ 1918 में अहमदाबाद कांग्रेस अधिवेशन में पहली बार शामिल हुए।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. 1.0 1.1 1.2 1.3 1.4 1.5 लोहिया के विचार (हिन्दी) (पी.एच.पी) भारतीय साहित्य संग्रह। अभिगमन तिथि: 7 अप्रॅल, 2011

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=राम_मनोहर_लोहिया&oldid=621149" से लिया गया