भीकाजी कामा  

भीकाजी कामा
भीकाजी कामा
पूरा नाम भीकाजी रुस्तम कामा
अन्य नाम मैडम कामा
जन्म 24 सितंबर, 1861
जन्म भूमि बम्बई (वर्तमान मुम्बई)
मृत्यु 13 अगस्त, 1936
मृत्यु स्थान बम्बई, भारत
पति/पत्नी रुस्तम के. आर. कामा
नागरिकता भारत, फ़्रांस
प्रसिद्धि मैडम भीकाजी कामा ने भारत का पहला झंडा फहराया उसमें हरा, केसरीया तथा लाल रंग के पट्टे थे।
आंदोलन भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन
अन्य जानकारी 'वन्दे मातरम' और 'मदन तलवार' नामक दो क्रांतिकारी पत्रों का प्रकाशन किया।

भीकाजी रुस्तम कामा अथवा 'मैडम कामा' (अंग्रेज़ी: Bhikaiji Cama, जन्म: 24 सितंबर, 1861; मृत्यु- 13 अगस्त, 1936) का नाम क्रांतिकारी आन्दोलन में विशेष उल्लेखनीय है, जिन्होंने विदेश में रहकर भी भारतीय क्रांतिकारियों की भरपूर मदद की थी। उनके ओजस्वी लेख और भाषण क्रांतिकारीयों के लिए अत्यधिक प्रेरणा स्रोत बने। भीकाजी रुस्तम कामा भारतीय मूल की फ़्राँसीसी नागरिक थीं, जिन्होंने लन्दन, जर्मनी तथा अमेरिका का भ्रमण कर भारत की स्वतंत्रता के पक्ष में माहौल बनाया। वे जर्मनी के स्टटगार्ट नगर में 22 अगस्त 1907 में हुई सातवीं अंतर्राष्ट्रीय कांग्रेस में तिरंगा फहराने के लिए सुविख्यात हैं। उस समय तिरंगा वैसा नहीं था जैसा वर्तमान में है। ये मैडम कामा के नाम से प्रसिद्ध हैं।

जीवन परिचय

मैडम कामा का जन्म 24 सितंबर सन् 1861 में एक पारसी परिवार में हुआ था। मैडम कामा के पिता प्रसिद्ध व्यापारी थे। मैडम कामा ने अंग्रेज़ी माध्यम से शिक्षा प्राप्त की। अंग्रेज़ी भाषा पर उनका प्रभुत्व था। श्री रुस्तम के. आर. कामा के साथ उनका विवाह हुआ। वे दोनों अधिवक्ता होने के साथ ही सामाजिक कार्यकर्ता भी थे, किंतु दोनों के विचार भिन्न थे। रुस्तम कामा उनकी अपनी संस्कृति को महान् मानते थे, परंतु मैडम कामा अपने राष्ट्र के विचारों से प्रभावित थीं। उन्हें विश्वास था कि ब्रिटिश लोग भारत का छल कर रहे हैं। इसीलिए वे भारत की स्वतंत्रता के लिए सदा चिंतित रहती थीं। मैडम कामा ने श्रेष्ठ समाज सेवक दादाभाई नौरोजी के यहां सेक्रेटरी के पद पर कार्य किया। उन्होंने यूरोप में युवकों को एकत्र कर स्वतंत्रता प्राप्ति के लिए मार्गदर्शन किया तथा ब्रिटिश शासन के बारे में जानकारी दी। मैडम कामा ने लंदन में पुस्तक प्रकाशन का कार्य आरंभ किया। उन्होंने विशेषत: देशभक्ति पर आधारित पुस्तकों का प्रकाशन किया। वीर सावरकर की ‘1857 चा स्वातंत्र्य लढा’ (1857 का स्वतंत्रता संग्राम) पुस्तक प्रकाशित करने के लिए उन्होंने सहायता की। मैडम कामा ने स्वतंत्रता प्राप्ति के लिए क्रांतिकारियों को आर्थिक सहायता के साथ ही अन्य अनेक प्रकार से भी सहायता की। सन् 1907 में जर्मनी के स्ट्रटगार्ड नामक स्थानपर ‘अंतरराष्ट्रीय साम्यवादी परिषद’ संपन्न हुई थी। इस परिषद के लिए विविध देशों के हजारों प्रतिनिधी आए थे। उस परिषद में मैडम भीकाजी कामा ने साड़ी पहनकर भारतीय झंडा हाथ में लेकर लोगों को भारत के विषय में जानकारी दी।

भारत का पहला झंडा फहराया

मैडम भीकाजी कामा ने भारत का पहला झंडा फहराया, उसमें हरा, केसरिया तथा लाल रंग के पट्टे थे। लाल रंग यह शक्ति का प्रतीक है, केसरिया विजय का तथा हरा रंग साहस एवं उत्साह का प्रतीक है। उसी प्रकार 8 कमल के फूल भारत के 8 राज्यों के प्रतीक थे। ‘वन्दे मातरम्’ यह देवनागरी अक्षरों में झंडे के मध्य में लिखा था। यह झंडा वीर सावरकर ने अन्य क्रांतिकारियों के साथ मिलकर बनाया था।[1]

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. मैडम कामा (हिंदी) (एच.टी.एम.एल) बालसंस्कार। अभिगमन तिथि: 5 मार्च, 2013।
  2. भारत
  3. मैडम भीकाजी कामा (हिंदी) (एच.टी.एम.एल) वेबदुनिया हिंदी। अभिगमन तिथि: 5 मार्च, 2013।
  4. भीखाजी कामा की जयन्ती किसी को याद नहीं (हिंदी) (एच.टी.एम.एल) kranti 4 people। अभिगमन तिथि: 5 मार्च, 2013।
  5. 5.0 5.1 ‘भारतकन्या' मैडम कामा (हिंदी) (एच.टी.एम.एल) हिंदू जनजागृति समिति। अभिगमन तिथि: 5 मार्च, 2013।

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=भीकाजी_कामा&oldid=608291" से लिया गया