पोट्टि श्रीरामुलु  

पोट्टि श्रीरामुलु
पोट्टि श्रीरामुलु
पूरा नाम पोट्टि श्रीरामुलु
जन्म - 16 मार्च, 1901
जन्म भूमि मद्रास
मृत्यु 15 दिसम्बर, 1952
मृत्यु स्थान चेन्नई
नागरिकता भारतीय
प्रसिद्धि स्वतन्त्रता सेनानी
आंदोलन नमक सत्याग्रह (1930), व्यक्तिगत सत्याग्रह (1940), भारत छोड़ो आंदोलन (1942)
संबंधित लेख गाँधी जी, एन.जी. रंगा
अन्य जानकारी पोट्टि श्रीरामुलु का 58 दिन तक यह अनशन चला और अपने उद्देश्य के लिए उन्होंने प्राणों की आहुति दे दी।

पोट्टि श्रीरामुलु (अंग्रेज़ी: Potti Sreeramulu, जन्म- 16 मार्च, 1901, मद्रास; मृत्यु- 15 दिसम्बर, 1952, चेन्नई) मद्रास प्रदेश से पृथक् आंध्र प्रदेश की स्थापना के लिए अनशन करके अपने प्राण त्याग देने वाले व्यक्ति थे। ये गाँधी जी के पक्के अनुयायी थे। पोट्टि श्रीरामुलु ने नमक सत्याग्रह, व्यक्तिगत सत्याग्रह और 'भारत छोड़ो आंदोलन' में जेल की सजाएं भी भोगीं थी।[1]

परिचय

पोट्टि श्रीरामुलु का जन्म 16 मार्च, 1901 ई. में मद्रास में हुआ था। शिक्षा प्राप्त करने के बाद उन्होंने कुछ समय तक रेलवे में नौकरी की। लेकिन शीघ्र ही पोट्टि श्रीरामुलु पर महात्मा गाँधी के विचारों का प्रभाव पड़ा और नौकरी छोड़कर वे गाँधी जी के साबरमती आश्रम चले गए।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. 1.0 1.1 1.2 भारतीय चरित कोश |लेखक: लीलाधर शर्मा 'पर्वतीय' |प्रकाशक: शिक्षा भारती, मदरसा रोड, कश्मीरी गेट, दिल्ली |संकलन: भारतकोश पुस्तकालय |पृष्ठ संख्या: 481 |

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=पोट्टि_श्रीरामुलु&oldid=620848" से लिया गया