शशिभूषण रथ  

शशिभूषण रथ
शशिभूषण रथ
पूरा नाम शशिभूषण रथ
जन्म 1 जनवरी, 1885
जन्म भूमि ज़िला गंजाम, उड़ीसा
मृत्यु 20 मार्च, 1943
नागरिकता भारतीय
प्रसिद्धि पत्रकार और स्वतंत्रता सैनानी
अन्य जानकारी शशिभूषण रथ को "उड़िया पत्रकारिता का जनक" कहा जाता है। पत्रकारिता के अभाव में उड़ीसा की जन भावना प्रकट नहीं हो पाती थी। इस अभाव को दूर करने के लिए शशिभूषण रथ ने 1913 में 'आशा' नाम का साप्ताहिक पत्र निकाला।

शशिभूषण रथ (अंग्रेज़ी: Sashibhusan Rath, जन्म- 1 जनवरी, 1885, गंजाम, मृत्यु- 20 मार्च, 1943) 'उड़िया पत्रकारिता के जनक' और स्वतंत्रता सैनानी थे। पत्रकारिता के अभाव में उड़ीसा की जन भावना प्रकट नहीं हो पाती थी। इस अभाव को दूर करने के लिए शशिभूषण रथ ने 1913 में 'आशा' नाम का साप्ताहिक पत्र निकाला। उन्होंने महिलाओं के उत्थान का समर्थन किया था।

परिचय

'उड़िया पत्रकारिता के जनक' शशिभूषण रथ का जन्म 1 जनवरी, 1885 ई. को गंजाम ज़िले में हुआ था। वह लंबोदर महापात्र के पुत्र थे, पर उनके दादा ने जन्म से पहले ही उन्हें अपने एक संबंधी दिगंबर रथ को गोद दे दिया था। शशिभूषण के विद्यार्थी जीवन काल में ही उड़ीसा को अलग राज्य बनाने के आंदोलन ने जोर पकड़ लिया था। सन 1903 में इसके लिए पहली बार 'उत्कल सम्मिलनी' हुई। इस आंदोलन का ही परिणाम था कि 1912 में बंगाल से अलग करके बिहार, उड़ीसा का नया प्रांत बना। लेकिन गंजाम को इसमें नहीं मिलाया गया। इस पर फिर आंदोलन हुआ और अपनी पढ़ाई छोड़कर शशिभूषण भी उसमें कूद पड़े। आजीविका के लिए छोटी-मोटी नौकरियां करते हुए वे उस समय के प्रमुख नेताओं के संपर्क में आए और कांग्रेस के सदस्य बन गए।[1]

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. भारतीय चरित कोश |लेखक: लीलाधर शर्मा 'पर्वतीय' |प्रकाशक: शिक्षा भारती, मदरसा रोड, कश्मीरी गेट, दिल्ली |पृष्ठ संख्या: 833 |

संबंधित लेख

और पढ़ें
"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=शशिभूषण_रथ&oldid=633225" से लिया गया