वासुदेव चापेकर  

वासुदेव चापेकर
वासुदेव चापेकर
पूरा नाम वासुदेव चापेकर
जन्म 1880
जन्म भूमि कोंकण,
मृत्यु 8 मई, 1899
अभिभावक पिता- हरिपंत चापेकर
नागरिकता भारतीय
प्रसिद्धि स्वतंत्रता सेनानी
संबंधित लेख चापेकर बन्धु, दामोदर हरी चापेकर, बालकृष्ण चापेकर
अन्य जानकारी वासुदेव चापेकर के भाई दामोदर हरी चापेकर और बालकृष्ण चापेकर भी अपनी शहादत देकर भारतीय इतिहास में अपनी अमिट छाप छोड़ गए हैं। ये तीनों भाई 'चापेकर बन्धु' नाम से प्रसिद्ध हैं।

वासुदेव चापेकर (अंग्रेज़ी: Vasudeo Chapekar, जन्म- 1880; शहादत- 8 मई, 1899) भारतीय क्रांतिकारी थे। उनके भाई दामोदर हरी चापेकर और बालकृष्ण चापेकर भी अपनी शहादत देकर भारतीय इतिहास में अपनी अमिट छाप छोड़ गए हैं। ये तीनों भाई 'चापेकर बन्धु' नाम से प्रसिद्ध हैं।

परिचय

वासुदेव चापेकर का जन्म 1880 में कोंकण में चित्पावन ब्राह्मण परिवार में हुआ था। उन्होंने मराठी भाषा के माध्यम से शिक्षा ली। समय के साथ वह पुणे में चिंचवड में बस गए। पिता हरिपंत चापेकर ने हरिनाथ को पुणे और मुंबई में बताया। बचपन में तीनों भाइयों ने पिता की मदद करने के लिए हरि कीर्तन की मदद की। इसने चापकेकर भाइयों की शिक्षाओं में विभाजन किया।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

और पढ़ें
"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=वासुदेव_चापेकर&oldid=627691" से लिया गया