अमिय कुमार दास  

अमिय कुमार दास
अमिय कुमार दास
पूरा नाम अमिय कुमार दास
जन्म 1895
जन्म भूमि तेजपुर, असम
मृत्यु 23 जनवरी, 1975
मृत्यु स्थान गुवाहाटी
पति/पत्नी पुष्पलता दास
संतान पुत्री
नागरिकता भारतीय
प्रसिद्धि समाज सेवक
धर्म हिंदू
आंदोलन असहयोग आंदोलन, व्यक्तिगत सत्याग्रह और भारत छोड़ो आंदोलन
जेल यात्रा असहयोग आंदोलन में भाग लेने के कारण दो बार जेल गये।
शिक्षा स्नातक
पुरस्कार-उपाधि पद्म भूषण, 1963
अन्य जानकारी अमिय कुमार दास अच्छे लेखक भी थे। उन्होंने गाँधीजी की आत्मकथा 'सत्य के प्रयोग' का असमिया भाषा में अनुवाद किया था।

अमिय कुमार दास (अंग्रेज़ी: Amiyo Kumar Das, जन्म: 1895, असम; मृत्यु: 23 जनवरी, 1975, गुवाहाटी, असम) भारतीय समाजसेवी, गाँधीजी के विचारों के अनुयायी, लेखक और असम के प्रमुख राष्ट्रीय नेता थे। ये लोक नायक के रूप में भी लोकप्रिय थे।[1]

परिचय

अमिय कुमार दास का जन्म 1895 में तेजपुर, असम में हुआ था। उन्होंने स्नातक की शिक्षा कोलकाता से पूरी की। क़ानून की पढ़ाई कर रहे थे कि ये गाँधीजी के असहयोग आंदोलन के आह्वान पर पढ़ाई छोड़कर तेजपुर वापस आ गए और आंदोलन को संगठित करने में लग गए।

आंदोलन में भाग

अमिय कुमार दास गाँधीजी के विचारों के अनुयायी थे इसलिये वह अपनी क़ानून की पढ़ायी बीच में ही छोड़कर गाँधीजी के असहयोग आंदोलन में सम्मिलित हो गये। असहयोग आंदोलन के सिलसिले में उन्होंने दो बार जेल की यात्राएं भी कीं। व्यक्तिगत सत्याग्रह और 'भारत छोड़ो आंदोलन में भी वे गिरफ़्तार हुए।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. भारतीय चरित कोश |लेखक: लीलाधर शर्मा 'पर्वतीय' |प्रकाशक: शिक्षा भारती, मदरसा रोड, कश्मीरी गेट, दिल्ली |पृष्ठ संख्या: 42 |

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=अमिय_कुमार_दास&oldid=619075" से लिया गया