अब्बास तैयबजी  

अब्बास तैयबजी
अब्बास तैयबजी
पूरा नाम अब्बास तैयबजी
अन्य नाम ग्रांड ओल्ड मैन ऑफ़ गुजरात
जन्म 1 फ़रवरी, 1854
जन्म भूमि वड़ोदरा, गुजरात
मृत्यु 9 जून, 1936
मृत्यु स्थान मसूरी
नागरिकता भारतीय
प्रसिद्धि क्रांतिकारी
संबंधित लेख महात्मा गाँधी, असहयोग आंदोलन, बारदोली सत्याग्रह
बाहरी कड़ियाँ अब्बास तैयबजी ने कांग्रेस की जलियांवाला बाग हत्याकांड जांच समिति में काम किया था और अपनी विदेशी वस्त्रों की होली जलाकर कुर्ता, पायजामा और गांधी टोपी धारण कर ली थी।

अब्बास तैयबजी (अंग्रेज़ी: Abbas Tyabji, जन्म- 1 फ़रवरी, 1854, बड़ौदा; मृत्यु- 9 जून, 1936, मसूरी) भारत की आज़ादी के लिए संघर्ष करने वाले क्रांतिकारी थे, जो गुजरात से थे। वे 34 वर्षों तक अंग्रेज़ों के अधीन देशी रियासतों की न्यायिक सेवा में विदेशी ठाट-बाट के साथ रहे, परंतु अंत में गांधीजी के प्रभाव से वह सत्याग्रही बन गए और उन्होंने जेल की सजाएं भोगीं।

परिचय

अब्बास तैयब जी का जन्म 1 फ़रवरी, 1854 को वड़ोदरा, गुजरात में एक संपन्न परिवार में हुआ था। उस परिवार ने 1859 में यह सोचकर घर में हिंदुस्तानी भाषा का प्रयोग आरंभ कर दिया था कि आगे चलकर यही भारत की मुख्य भाषा होगी।[1]

मुख्य न्यायाधीश

11 वर्ष की उम्र में ही अब्बास तैयबजी को इंग्लैंड भेज दिया गया। वहां से वह विदेशी आचार-विचार सीखकर तथा बैरिस्टर बनकर भारत लौटे और वड़ोदरा रियासत की नौकरी आरंभ की। सन 1913 में वह वहां के मुख्य न्यायाधीश बने।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. भारतीय चरित कोश |लेखक: लीलाधर शर्मा 'पर्वतीय' |प्रकाशक: शिक्षा भारती, मदरसा रोड, कश्मीरी गेट, दिल्ली |पृष्ठ संख्या: 37 |

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=अब्बास_तैयबजी&oldid=623457" से लिया गया