बाल मुकुन्द  

बाल मुकुन्द (अंग्रेज़ी: Bal Mukund, जन्म- 1891, पश्चिमी पंजाब,; मृत्यु- 1917) पश्चिमी पंजाब के क्रांतिकारी थे। जिन्होंने सन 1912 में चांदनी चौक से लार्ड हाडिंग पर बम फेंका था।[1]

  • बाल मुकुन्द का जन्म पश्चिमी पंजाब के एक गांव में 1891 में हुआ।
  • वे क्रांतिकारी नेता भाई परमान के चचरे भाई थे।
  • बाल मुकुंद दिल्ली के क्रांतिकारियों के दल से जुड़ गए जिन्होंने सन 1912 में चांदनी चौक से लार्ड हाडिंग पर बम फेंका था।
  • उन्हें 26 वर्ष की अल्पायु में मृत्यु दंड की सजा दी गई उसी दिन उनकी पत्नी राखी का भी देहांत हो गया। दोनों का एक साथ दाह संस्कार किया गया।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. भाई बाल मुकुन्द (हिंदी) क्रांति 1857। अभिगमन तिथि: 30 मार्च, 2017।

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=बाल_मुकुन्द&oldid=588643" से लिया गया