सप्ताह  

सामान्यत: एक माह में चार सप्ताह होते हैं और एक सप्ताह में सात दिन होते हैं। सप्ताह के प्रत्येक दिन पर नौ ग्रहों के स्वामियों में से क्रमश: पहले सात का राज चलता है. जैसे-

  1. रविवार पर सूर्य का राज चलता है।
  2. सोमवार पर चन्द्रमा का राज चलता है।
  3. मंगलवार पर मंगल का राज चलता है।
  4. बुधवार पर बुध का राज चलता है।
  5. बृहस्पतिवार पर गुरु का राज चलता है।
  6. शुक्रवार पर शुक्र का राज चलता है।
  7. शनिवार पर शनि का राज चलता है।
  • अन्तिम दो राहु और केतु क्रमश: मंगलवार और शनिवार के साथ सम्बन्ध बनाते हैं।

यहाँ एक बात याद रखना ज़रूरी है- पश्चिम में दिन की शुरुआत मध्य रात्रि से होती है और वैदिक दिन की शुरुआत सूर्योदय से होती है। वैदिक ज्योतिष में जब हम दिन की बात करें तो मतलब सूर्योदय से ही होगा। सप्ताह के प्रत्येक दिन के कार्यकलाप उसके स्वामी के प्रभाव से प्रभावित होते हैं और व्यक्ति के जीवन में उसी के अनुरुप फल की प्राप्ति होती है। जैसे- चन्द्रमा दिमाग और गुरु धार्मिक कार्यकलाप का कारक होता है। इस वार में इनसे सम्बन्धित कार्य करना व्यक्ति के पक्ष में जाता है। सप्ताह के दिनों के नाम ग्रहों की संज्ञाओं के आधार पर रखे गए हैं अर्थात जो नाम ग्रहों के हैं, वही नाम इन दिनों के भी हैं। जैसे-

  • सूर्य के दिन का नाम रविवार, आदित्यवार, अर्कवार, भानुवार इत्यादि।
  • शनिश्चर के दिन का नाम शनिवार, सौरिवार आदि।
  • संस्कृ्त में या अन्य किसी भी भाषा में भी साप्ताहिक दिनों के नाम सात ग्रहों के नाम पर ही मिलते हैं। संस्कृ्त में ग्रह के नाम के आगे वार या वासर या कोई ओर प्रयायवाची शब्द रख दिया जाता है।
  • सप्ताह केवल मानव निर्मित व्यवस्था है। इसके पीछे कोई ज्योतिःशास्त्रीय या प्राकृतिक योजना नहीं है।
  • स्पेन आक्रमण के पूर्व मेक्सिको में पाँच दिनों की योजना थी।
  • सात दिनों की योजना यहूदियों, बेबिलोनियों एवं दक्षिण अमेरिका के इंका लोगों में थी।
  • लोकतान्त्रिक युग में रोमनों में आठ दिनों की व्यवस्था थी, मिस्रियों एवं प्राचीन अथेनियनों में दस दिनों की योजना थी।
  • ओल्ड टेस्टामेण्ट में आया है कि ईश्वर ने छः दिनों तक सृष्टि की और सातवें दिन विश्राम करके उसे आशीष देकर पवित्र बनाया। - जेनेसिरा[1], एक्सोडस[2] एवं डेउटेरोनामी[3] में ईश्वर ने यहूदियों को छः दिनों तक काम करने का आदेश दिया है और एक दिन (सातवें दिन) आराम करने को कहा है और उसे ईश्वर के सैब्बाथ (विश्रामवासर) के रूप में पवित्र मानने की आज्ञा दी है।
  • यहूदियों ने सैब्बाथ (जो कि सप्ताह का अन्तिम दिन है) को छोड़कर किसी दिन को नाम नहीं दिया है; उसे वे रविवार न कहकर शनिवार मानते हैं।
  • ओल्ड टेस्टामेण्ट में सप्ताह-दिनों के नाम (व्यक्तिवाचक) नहीं मिलते। ऐसा प्रतीत होता है कि न्यू टेस्टामेण्ट में भी सप्ताह-दिन केवल संख्या से ही द्योतित हैं।[4] सप्ताह में कोई न कोई दिन कतिपय देशों एवं धार्मिक सम्प्रदायों द्वारा सैब्बाथ (विश्रामदिन) या पवित्र माना गया है, यथा - सोमवार यूनानी सैब्बाथ दिन, मंगल पारसियों का, बुध असीरियों का, बृहस्पति मिस्रियों का, शुक्र मुसलमानों का, शनिवार यहूदियों का एवं रविवार ईसाईयों का पवित्र विश्रामदिन है।
  • सात दिनों के वृत्त के उद्भव एवं विकास का वर्णन 'एफ. एच. कोल्सन' के ग्रन्थ 'दी वीक'[5] में उल्लिखित है।
  • डायोन कैसिअस (तीसरी शती के प्रथम चरण में) ने अपनी 37वीं पुस्तक में लिखा है कि 'पाम्पेयी ई. पू. 83 में येरूसलेम पर अधिकार किया, उस दिन यहूदियों का विश्राम दिन था। उसमें आया है कि ग्रहीय सप्ताह (जिसमें दिनों के नाम ग्रहों के नाम पर आधारित हैं) का उद्भव मिस्र में हुआ।
  • डियो ने 'रोमन हिस्ट्री'[6] में यह स्पष्ट किया है कि सप्ताह का उद्गम यूनान में न होकर मिस्र में हुआ और वह भी प्राचीन नहीं है बल्कि हाल का है। इससे प्रकट है कि यूनान में सप्ताह का ज्ञान-प्रवेश ईसा की पहली शती में हुआ। पाम्पेयी के नगर में, जो सन् 79 ई. में लावा (ज्वालामुखी) में डूब गया था, एक दीवार पर सप्ताह के छः दिनों के नाम आलिखित हैं। इससे संकेत मिलता है कि सन् 79ई0 के पूर्व ही इटली में सप्ताह-दिनों के नाम ज्ञात थे।
  • कोल्सन महोदय इस बात से भ्रमित हो गए हैं कि ट्यूटान देशों में 'वेंस्डे' एवं 'थस्टडे' जैसे नाम कैसे आए।
  • सार्टन ने 'हिस्ट्री ऑफ साइंस' में लिखा है कि 'यहूदी, मिस्री दिन-घण्टे एवं चाल्डिया के ज्योतिष ने वर्तमान सप्ताह की सृष्टि की है।[7] सार्टन का मत है कि ग्रहीय दिनों का आरम्भ मिस्र एवं बेबिलोन में हुआ, यूनान में इसका पूर्वज्ञान नहीं था। आधुनिक यूरोपीय घण्टे बेबिलोन घण्टों एवं मिस्री पंचांग की दिन-संख्या पर आधारित हैं।
  • ई. पू. दूसरी शती तक यूरोप में तथा मध्य एशिया में आज के सप्ताह-दिनों के नामों के आदि के विषय में कोई ज्ञान नहीं था।

रोमन केलैंण्डर

रोमन केलैंण्डर में सम्राट कोंस्टेंटाईन ने ईसा के क़रीब तीन सौ वर्ष के बाद सात दिनों वाले सप्ताह को निश्चत किया और उन्हें नक्षत्रों के नाम दिये -

  • सप्ताह के पहले दिन को 'सूर्य का नाम' दिया गया है।
  • दूसरे दिन को चाँद का नाम दिया गया है।
  • तीसरे दिन को मंगल दिया गया है।
  • चौथे दिन को बुध दिया गया है।
  • पाँचवें दिन को बृहस्पति दिया गया है।
  • छठे दिन को शुक्र दिया गया है।
  • सातवें दिन को शनि का नाम दिया गया है।
  • आज भी रोमन संस्कृती से प्रभावित देशों में इन्हीं नामों का प्रयोग होता है.

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. जेनेसिरा 2|1-3
  2. एक्सोडस 20|8-11,23|12-14
  3. डेउटेरोनामी 5|12-15
  4. मैथ्यू, 28|1; मार्क, 16|9; ल्यूक, 24|1
  5. एफ. एच. कोल्सन के ग्रन्थ 'दी वीक' कैम्ब्रिज यूनीवर्सिटी प्रेस, 1926
  6. रोमन हिस्ट्री जिल्द 3, पृ0 129, 131
  7. हिस्ट्री ऑफ साइंस पृ0 76-77
  8. विष्णुपुराण 1|12|92
  9. काहो ढ मनुयुग श्ख गतास्ते च मनुयुग छ्ना च। कल्पादेर्युगपादा ग च गुरुदिवसाच्च भारतात्पूर्वम्।। दशगीतिका, श्लोक 3।
    टीकाकार ने लिखा हैः 'राज्यं चरतां युघिष्ठिरादीनायन्त्यो गुरुदिवसो भारतगुरुदिवसः। द्वापरावसानगत इत्यर्थः।
    तस्मिन् दिवसे युधिष्ठिरादयो राज्यमुत्सृज्य महाप्रस्थानं गता इति प्रसिद्धः।
    तस्माट्गुरुदिवसात् पूर्वकल्पादेरारभ्य गता मन्वादय इहोक्ताः।

    इस श्लोक का अर्थ हैः 'ब्रह्मा के एक दिन में 14 मनु हैं तथा 72 युग एक मन्वन्तर बनाते हैं; इस कल्प में भारत युद्ध के बृहस्पतिवार तक 6 मनु, 27 युग, 3 युगपाद व्यतीत हो चुके हैं।' 'काह'-का अर्थ है कस्य ब्रह्मणः अहः दिवसः; आर्यभट के अनुसार ढ 14; श्ख 72; ष् 70 एवं ख 2; छना 27 (छ 7 एवं न या ना 20); ग 3।
  10. बृहत्संहिता 1|4
  11. पंचसिद्धान्तिका (1|8)
  12. बृहत्संहिता 103|61-63
  13. वैखानस-स्मार्त-सूत्र 1|4
  14. बौधायन धर्मसूत्र 2|5|23
  15. प्रथम ग्रन्थ (2|12)
  16. 3|61
  17. याज्ञवल्क्य स्मृति 1|296
  18. नारद पुराण 1|5180
  19. और देखिए मत्स्य पुराण (93|7), विष्णुधर्मोत्तर पुराण (78|1-7) आदि।
  20. महाभारत आश्वमेधिक पर्व 44|2
  21. पाणिनि (3|2|30)
  22. 11. 'नाड़ी' एवं 'नाड़िका' के कई अर्थ हैं-मुरली, नली, धमनी, एक आधा मुहूर्त। 'नाडिन्घम' का अर्थ स्वर्णकार है (क्योंकि वह एक नली से फूँककर आग धौंकता है)। काठकसंहिता (23|4 सैषा वनस्पतिषु वाग्वदति या नाड्या तूणवे) से प्रकट होता है कि नाड़ी एक ऐसा वाद्य था जिससे स्वर निकलते थे।
  23. ऋग्वेद (10|135|7
  24. कर्निघम (इण्डियन ऐण्टीक्वेरी, जिल्द 14, पृ0 1
  25. अल्बरूनी सचौ, जिल्द 1, अध्याय 19, पृ0 214-215

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=सप्ताह&oldid=620777" से लिया गया