अब्दुल रशीद  

  • अब्दुल रशीद आज़ाद हिन्द फ़ौज में सम्मिलित होकर प्रमुख सैन्य अधिकारी बने।
  • सुभाष की मृत्यु के बाद ब्रिटिश सरकार ने आज़ाद हिन्द फ़ौज का दमन किया तथा कलकत्ता में 7 वर्ष की कारावास की सज़ा सुनाई गईं।
  • इस पर 11 फरवरी, 1946 ई. को कलकत्ता में विद्रोह हो गया।
  • प्रतिवादी जुलूस का नेतृत्व मुस्लिम लीग के छात्रों ने किया, किन्तु कांग्रेस तथा कम्युनिस्ट पार्टी के छात्र संगठन में सम्मिलित हुए।
  • छात्रों ने धारा 144 का उल्लंघन किया तथा पुलिस ने उन पर लाठीचार्ज किया। बाद में आज़ाद हिन्द फ़ौज के अन्य अधिकारियों के साथ रशीद को भी छोड़ दिया गया।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

और पढ़ें
"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=अब्दुल_रशीद&oldid=268783" से लिया गया