श्रावणी पूर्णिमा  

श्रावणी पूर्णिमा
श्रावण पूर्णिमा
विवरण 'श्रावण पूर्णिमा' को चंद्रमा श्रवण नक्षत्र में गोचररत होता है। इसलिये पूर्णिमांत मास का नाम श्रावण रखा गया है और यह पूर्णिमा श्रावण पूर्णिमा कहलाती है।
अनुयायी हिन्दू
तिथि श्रावण शुक्ल पूर्णिमा
विशेष भगवान विष्णु, भगवान शिव सहित देवी-देवताओं, कुलदेवताओं की पूजा कर हाथ पर पोटली का रक्षासूत्र बंधवाना चाहिये।
संबंधित लेख श्रावण, सावन के सोमवार, रक्षाबन्धन
अन्य जानकारी हिन्दू धर्म ग्रन्थों में श्रावणी कर्म का विशेष महत्त्व बतलाया गया है। श्रावणी पूर्णिमा के दिन 'यज्ञोपवीत' के पूजन तथा उपनयन संस्कार का भी विधान है।

श्रावणी पूर्णिमा का हिन्दू धर्म में बड़ा ही महत्त्व है। यह श्रावण मास की पूर्णिमा है, जिसमें ब्राह्मण वर्ग अपनी कर्म शुद्धि के लिए उपक्रम करते हैं। ग्रंथों में इस दिन किए गए तप और दान का महत्त्व उल्लेखित है। इस दिन 'रक्षाबंधन' का पवित्र त्यौहार मनाया जाता है। इसके साथ ही श्रावणी उपक्रम, श्रावण शुक्ल पूर्णिमा को आरम्भ होता है। हिन्दू धर्म ग्रन्थों में श्रावणी कर्म का विशेष महत्त्व बतलाया गया है। श्रावणी पूर्णिमा के दिन 'यज्ञोपवीत' के पूजन तथा उपनयन संस्कार का भी विधान है।

नामकरण

हिंदू पंचांग के अनुसार चंद्रवर्ष के प्रत्येक माह का नामकरण उस महीने की पूर्णिमा को चंद्रमा की स्थिति के आधार पर हुआ है। ज्योतिषशास्त्र में 27 नक्षत्र माने जाते हैं। सभी नक्षत्र चंद्रमा की पत्नी माने जाते हैं। इन्हीं में एक है श्रवण। मान्यता है कि श्रावण पूर्णिमा को चंद्रमा श्रवण नक्षत्र में गोचररत होता है। इसलिये पूर्णिमांत मास का नाम श्रावण रखा गया है और यह पूर्णिमा श्रावण पूर्णिमा कहलाती है।

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=श्रावणी_पूर्णिमा&oldid=634812" से लिया गया