अंगोला  

अंगोला पश्चिमी अफ्रीका के उस भाग में स्थित कछ प्रदेशों को कहते हैं, जो भूमध्यरेखा के दक्षिण में हैं और पहले पुर्तग़ाल के अधीन थे।

स्थिति तथा जनसंख्या

अंगोला की स्थिति 6° 30' दक्षिणी अक्षांश से 17 दक्षिणी अक्षांश, 12° 30° पूर्वी देशांतर से 23° पूर्वी देशांतर है। इसका क्षेत्रफल 4,81,351 वर्गमील; जनसंख्या लगभग 50 लाख है, जिनमें लगभग 3 लाख गोरे हैं। इसकी सीमा उत्तर में बेल्जियम, कांगो, पश्चिम में दक्खिनी अंधमहासागर, दक्षिण में दक्षिणी अफ्रीका संघ तथा पूर्व में रोडेशिया तक है। अंगोला पहले पुर्तग़ाल के अधीन था, पर अब संयुक्त राष्ट्रसंघ की देखरेख में है।

जलवायु व वनस्पति

अंगोला का अधिकांश भाग पठारी है, जिसकी सागर तल से औसत ऊँचाई 500 फ़ुट है। यहाँ केवल सागर तट पर ही मैदान है। इनकी चौड़ाई 30 से लेकर 100 मील तक है। यहाँ की मुख्य नदी कोयंजा है। पठारी भाग की जलवायु शीतोष्ण है। सितंबर से लेकर अप्रैल तक के बीच 50 इंच से 60 इंच तक वर्षा होती है। उष्णकटिबंधीय वनस्पतियाँ यहाँ अपने पूर्ण वैभव में उत्पन्न होती है, जिनमें से मुख्य नारियल, केला और अनेक अंतर-उष्ण-कटिबंधीय लताएँ हैं। उष्णकटिबंधीय पशुओं के साथ-साथ यहाँ पर आयात किए हुए घोड़े, भेड़ें तथा गाएँ भी पर्याप्त संख्या में हैं।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. अंगोला (हिंदी) भारतखोज। अभिगमन तिथि: 16 फ़रवरी, 2014।

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=अंगोला&oldid=609835" से लिया गया