जावा द्वीप  

जावा द्वीप इण्डोनेशिया गणराज्य में स्थित है। इस द्वीप का भारतीय इतिहास से बहुत निकट का सम्बंध रहा है। प्राचीन समय में इस द्वीप को 'यव द्वीप' कहा जाता था। भारत के कई ग्रंथों में जावा द्वीप का उल्लेख हुआ है। लगभग दो हज़ार वर्ष तक यहाँ हिन्दू सभ्यता का प्रभुत्व रहा। आज भी यहाँ हिन्दुओं की बड़ी बस्तियाँ पाई जाती हैं। विशेषकर पूर्व जावा में 'मजापहित' साम्राज्य के वंशज टेंगर लोग रहते हैं, जो अब भी हिन्दू हैं। 'बोरोबुदुर' और 'प्रमबनन मंदिर' यहाँ के प्रसिद्ध धार्मिक स्थल हैं।

इतिहास

प्राचीन काल में जावा निकटवर्ती क्षेत्रों के समान हिन्दू राजाओं के अधीन था। हिन्दू राजाओं ने ही यहाँ बौद्ध धर्म का प्रचार किया था। यहाँ बहुत से हिन्दू एवं बौद्ध समुदाय के मंदिर तथा उनके अवशेष विद्यमान हैं। मैगेलांग के निकट 'बोरोबुदुर' मंदिर संसार का बृहत्तम बौद्ध मंदिर है। 14वीं-15वीं सदी में यहाँ मुस्लिम संस्कृति फैली और यहाँ मुसलमानों का राजनीतिक आधिपत्य हुआ। इसके बाद पुर्तग़ाली, डच एवं अंग्रेज़ व्यापारी आए, किंतु 1619 ई. से डचों ने राज्य प्रारंभ किया। 27 दिसम्बर, 1949 में इंडोनेशिया गणराज्य की स्थापना हुई, जिसमें जावा प्रमुख द्वीप है।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=जावा_द्वीप&oldid=527754" से लिया गया