ललितपाटन  

ललितपाटन नेपाल स्थित ऐतिहासिक स्थानों में से एक है। मौर्य सम्राट अशोक ने अपनी नेपाल यात्रा के समय (250 ई. पू.) इस नगर को नेपाल की प्राचीन राजधानी 'मंजुपाटन' के स्थान पर बसाया था।[1]

  • यह नगर आज भी काठमांडू से 2.5 मील की दूरी पर दक्षिण-पूर्व की ओर स्थित है।
  • इस स्थान को 'ललितपुर' भी कहा जाता है।
  • ललितपाटन में अशोक ने पांच बड़े स्तूप बनवाये थे। एक नगर के मध्य में और अन्य नगर के परकोटे के बाहर चारों कोनों पर। ये स्तूप अब भी विद्यमान हैं।
  • उत्तरी कोण में स्थित स्तूप को स्थानीय बोली में 'जिंपीतौडु' कहा जाता है।[2]
  • नेपाल यात्रा के समय अशोक की पुत्री 'चारुमती' ने अपने पति के नाम पर नेपाल में 'देवपाटन' नामक नगर बसाया था।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. ऐतिहासिक स्थानावली |लेखक: विजयेन्द्र कुमार माथुर |प्रकाशक: राजस्थान हिन्दी ग्रंथ अकादमी, जयपुर |संकलन: भारतकोश पुस्तकालय |पृष्ठ संख्या: 813 |
  2. सिलवेन लेवी-‘लै नेपाल’ (फ्रेंच), जिन्द 1, पृ. 263,331

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=ललितपाटन&oldid=506229" से लिया गया