ईस्टर द्वीप  

ईस्टर द्वीप / ईस्टर आइसलैंड

दक्षिण अमेरिकी देश चिली से 2500 मील दूर स्थित द्वीप ईस्टर आईलैंड है। पिट केरियन द्वीप के पास स्थित ईस्टर आइसलैंड अपनी विचित्रता और डरावने स्‍थल के लिए दुनियाभर में मशहूर है। ईस्टर द्वीप दुनिया की सबसे रहस्यमय जगहों में से एक है। प्रशांत महाद्वीप में सुदूर स्थित ईस्टर द्वीप पर प्राचीनतम विशाल शिलाओं के मानव सिरों वाली प्रतिमाएं अब तक सारी दुनिया के लिए आश्चर्य से भरपूर हैं। यह दुनिया में मुख्य भूमि से सबसे दूर स्थित इंसानी आबादी वाला द्वीप है। ईस्टर आइलैंड दक्षिणी प्रशांत महासागर में 64 वर्ग मील क्षेत्र में फैला हुआ है। ये अपने आप में एक अद्भुत खोज है।

ईस्टर आइसलैंड का स्पेनिश नाम "इसला डी पैसकुआ" है। स्थानीय भाषा में 'रापा नुई' कहलाने वाले इस द्वीप पर एक ही पत्थर से तराशी हुई विशालकाय इंसानी मूर्तियां जगह-जगह बिखरी हुई है, जिन्हें 'मोआई' कहा जाता है। इनमें से सबसे बड़ी मूर्ति 33 फिट ऊंची और लगभग 75 टन भारी है। यहां पर एक अधूरी मूर्ति भी दिखाई देती है जो अगर पूरी हो जाती तो 69 फिट ऊंची और लगभग 270 टन भार की होती। यह मूर्तियां लगभग 1200 साल पुरानी मानी जाती है और यूनेस्को ने इस स्थान को विश्व विरासत की सूची में रखा है। यहां पर जुलाई और अगस्त के महीनों में तापमान कम होने पर सबसे अधिक पर्यटक देखे जा सकते है।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=ईस्टर_द्वीप&oldid=393686" से लिया गया