वर्णु  

वर्णु पाकिस्तान के वर्तमान 'बन्नू' शहर का प्राचीन नाम है, जिसे प्रसिद्ध चीनी यात्री युवानच्वांग ने फलन लिखा है।[1]

  • संस्कृत के प्रसिद्ध वैयाकरणाचार्य पाणिनि ने सबसे पहले चौथी शताब्दी ई. पू. में 'बन्नू' का ज़िक्र किया था और उसका प्राचीन नाम 'वरनु' (वर्णु) बताया था।
  • इतिहासकारों को बन्नू के अकरा नामक क्षेत्र में मौजूद टीलों में अति प्राचीन सिन्धु घाटी सभ्यता के अवशेष मिले हैं।
  • मध्य एशिया से आये बहुत से हमलावरों द्वारा छोड़े गए तरह-तरह के चिह्न भी यहाँ से प्राप्त हुए हैं।
  • यहाँ के लोग पठान या पंजाबी हैं और इस पूरे क्षेत्र में 'पश्तो' और 'हिन्दको'[2] बोली जाती है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. ऐतिहासिक स्थानावली |लेखक: विजयेन्द्र कुमार माथुर |प्रकाशक: राजस्थान हिन्दी ग्रंथ अकादमी, जयपुर |संकलन: भारतकोश पुस्तकालय |पृष्ठ संख्या: 835 |
  2. एक पंजाबी उपभाषा

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=वर्णु&oldid=507082" से लिया गया