इरकूटस्क  

इरकूटस्क रूस के साइबेरिया प्रदेश में अ. 52° 36' उ. तथा दे. 104° 10' पू. में स्थित एक नगर है। यह येनीसी की सहायक अंगारा नदी के दाहिने किनारे पर, समुद्र से 1,480 फुट की ऊँचाई पर स्थित है इसका उपनगर ग्लाजकोवस्को नदी के बाएँ तट पर है तथा इन दोनों के बीच 630 गज लंबा पुल है। इरकूटस्क नगर का नामकरण इरकूट नदी के आधार पर हुआ है जो अंगारा में बाई ओर से मिलती है। उचित भौगोलिक स्थिति के कारण ही नगर चीन, अमूर प्रदेश, लीना की स्वर्णखदानों तथा समूर क्षेत्रों से होने वाले व्यापार का केंद्र बना हुआ है। इसी कारण यह साइबेरिया प्रदेश का प्रमुख नगर है। इसकी जनसंख्या सन्‌ 1970 ई. में 4,51,000 थी। यहाँ का औसत ताप जनवरी में 5.4° फा., जुलाई में 65.1° फा. तथा औसत वार्षिक वर्षा 14.5° इंच है। यहाँ के मुख्य उद्योग धंधे लकड़ी चिराई, आटा, चमड़ा, ऊर्णाजिन (फ़र) तैयार करना, भेड़ की खाल के कोट तथा मद्य बनाना आदि हैं। नगर सुंदर ढंग से बसा हुआ है।[1]



पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. हिन्दी विश्वकोश, खण्ड 1 |प्रकाशक: नागरी प्रचारिणी सभा, वाराणसी |संकलन: भारत डिस्कवरी पुस्तकालय |पृष्ठ संख्या: 537 |

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=इरकूटस्क&oldid=631857" से लिया गया