कूचवार  

कूचवार पाणिनिकालीन एक नगर था। यह चीनी तुर्किस्तान में उत्तरी तरिम उपत्यका का नाम था, जिसका अर्वाचीन नाम कूचा है। चीनी भाषा में आजकल इसे 'कूची' कहते हैं।[1]

  • कूचा से प्राप्त अभिलेखों में कूचा के राजाओं को कूचीश्वर, कूचि महाराज, कौचेय, कौचेय वरेंद्र कहा गया है।
  • कूचा बहुत प्राचीन राज्य था।
  • चीन से पश्चिम जाने वाले रेशम पथों पर कूचा प्रसिद्ध केंद्र था।
  • चीनी यात्री तुरफान से कूचा होकर काशगर आते थे और वहाँ से कम्बोज (पामीर) और बाल्हीक (बल्ख) होते हुए भारतवर्ष में प्रवेश करते थे।
  • कूचा या मध्य एशिया से कौचप या कोजव नामक ऊनी वस्त्र (कालीन या नम्दे) आया करते थे।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. पाणिनीकालीन भारत |लेखक: वासुदेवशरण अग्रवाल |प्रकाशक: चौखम्बा विद्याभवन, वाराणसी-1 |संकलन: भारतकोश पुस्तकालय |पृष्ठ संख्या: 85 |

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=कूचवार&oldid=627556" से लिया गया