समंतपंचक  

समंतपंचक एक प्राचीन तीर्थ स्थान था, जिसका उल्लेख हिन्दू धार्मिक ग्रंथ महाभारत और श्रीमद्भागवत में हुआ है-

'प्रजापतेरुत्तरवेदिरुच्यते सनातनं राम समन्तपंचकम्, समीजिरे यत्र पुरादिवौकसो वरेण सत्रेण महावरप्रदाः, पुरा च राजषिंवरेण धीमता, बहूनि वर्षाष्यमितेन तेजसा, प्रकृष्टमेतत् कुरुणा महात्मना ततः कुरुक्षेत्रमितीह पप्रथे।'[1]
  • उपर्युक्त अवतरण से विदित होता है कि महाभारत काल में समंतपंचक कुरुक्षेत्र का ही दूसरा नाम था। यह सरस्वती नदी के तट पर स्थित था। इसकी यात्रा बलराम ने सरस्वती के अन्य तीर्थो के साथ की थी।[2]
'तंज्ञात्वा मनुजा राजन् पुरस्तादेव सर्वतः, समन्तपंचकं क्षेत्रं ययुः श्रेयोविधित्सया।'


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. महाभारत शल्यपर्व 53 1-2
  2. ऐतिहासिक स्थानावली |लेखक: विजयेन्द्र कुमार माथुर |प्रकाशक: राजस्थान हिन्दी ग्रंथ अकादमी, जयपुर |संकलन: भारतकोश पुस्तकालय |पृष्ठ संख्या: 835 |
  3. श्रीमद्भागवत 10, 82, 2

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=समंतपंचक&oldid=504494" से लिया गया