रम्यकवर्ष  

रम्यकवर्ष पौराणिक भूगोल के वर्णन के अनुसार जंबूद्वीप का एक भाग था, जिसके उपास्य देव वैवस्वत मनु थे। 'विष्णुपुराण'[1] में इसे जंबूद्वीप का उत्तरी वर्ष कहा गया है-

'रम्यकं चोत्तरं वर्षं तस्येवानु हिरण्यमयम्, उत्तरा: कुरवश्चेव यथा वै भारतं तथा।'
'तथा जिष्णु रतिक्रम्य पर्वतं नीलमायतम्, विवेशरम्यकं वर्ष संकीर्णं मिथुनै शुभैः।'
  • यह देश सुंदर नर-नारियों से आकीर्ण था। इसे जीतकर अर्जुन ने यहां से कर ग्रहण किया था-
'तं देशमथजित्वा च करे च विनिवेश्य च।'
  • उपर्युक्त उद्धरणों से रम्यकवर्ष की स्थिति उत्तर कुरु या एशिया के उत्तरी भाग साइबेरिया के निकट प्रमाणित होती है। इसके उत्तर में संभवतः हिरण्मय वर्ष था।[3]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. विष्णुपुराण 2, 2, 13
  2. सभापर्व 28
  3. ऐतिहासिक स्थानावली |लेखक: विजयेन्द्र कुमार माथुर |प्रकाशक: राजस्थान हिन्दी ग्रंथ अकादमी, जयपुर |संकलन: भारतकोश पुस्तकालय |पृष्ठ संख्या: 778 |

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=रम्यकवर्ष&oldid=516352" से लिया गया