ब्रह्मर्षि देश  

ब्रह्मर्षि देश ऋषियों या संतों की भूमि को कहा गया है। ऐतिहासिक तौर पर यह संस्कृत शब्द है, जिसका प्रयोग सरहिन्द के पूर्व में दक्षिण में स्थित मथुरा तक पूरे गंगा और यमुना नदियों के मध्यवर्ती मैदानी क्षेत्र के लिए किया जाता था।[1]


इन्हें भी देखें: ब्रह्मावर्त


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. भारत ज्ञानकोश, खण्ड-4 |लेखक: इंदु रामचंदानी |प्रकाशक: एंसाइक्लोपीडिया ब्रिटैनिका प्राइवेट लिमिटेड, नई दिल्ली और पॉप्युलर प्रकाशन, मुम्बई |संकलन: भारतकोश पुस्तकालय |पृष्ठ संख्या: 98 |

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=ब्रह्मर्षि_देश&oldid=504151" से लिया गया