नील पर्वत  

नील पर्वत का उल्लेख महाभारत, सभापर्व[1] में हुआ है, जहाँ इसे पाण्डव अर्जुन द्वारा विजित किये जाने का उल्लेख है।

  • महाभारत के भूगोल के अनुसार[2] निषध पर्वत के उत्तर में मेरु पर्वत है। मेरु के उत्तर की ओर तीन श्रेणियाँ हैं- नील, श्वेत और श्रृंगवान, जो पूर्व-पश्चिम समुद्र तक विस्तृत कही गई है। नील, श्वेत और श्रृंगवान (या श्रृंगी) पर्वतों के उत्तर की ओर के प्रदेश को क्रमश: नीलवर्ष, श्वेतवर्ष और हेरण्यक या ऐरावत के नाम दिए गए हैं। महाभारत, सभापर्व[3] में नील को अर्जुन द्वारा विजित बताया गया है-
'नीलं नाम गिरिं गत्वा तत्रस्थानजयत् प्रभु:' 'ततो जिष्णुरतिक्रम्य पर्वत नीलमायतम्'।
  • नील पर्वत को पार करने के पश्चात् अर्जुन रम्यक, हिरण्यक और उत्तरकुरु पहुँचे थे। जैन ग्रंथ 'जंबूद्वीपप्रज्ञप्ति' में नील की जंबूद्वीप के छ: वर्षपर्वतों में गणना की गई है। विष्णु पुराण[4] में भी नील का उल्लेख है-
'नील: श्वेतश्च श्रृंगी च उत्तर वर्षपर्वता:।'
'रैवतक: ककुभो नीलो गोकामुख इंद्रकील:।'
'गंगाद्वारे कुशावर्ते बिल्वके नील पर्वते तथा कनखले स्नात्वा धूतपाप्मा दिवं व्रजेत'[6]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=नील_पर्वत&oldid=503314" से लिया गया