तेजोभिभवन  

तेजोभिभवन स्थान का उल्लेख वाल्मीकि रामायण में अयोध्या के दूतों की केकय देश की यात्रा के प्रसंग में हुआ है-

'अभिकालं तत: प्राप्य तेजोभिभवनाच्च्युता: पितृ-पैतामहीं पुण्यां तेरुरिक्षुमतीं नदीम्'[1]
  • जान पड़ता है कि तेजोभिभवन, पंजाब में विपाशा या व्यास नदी के कुछ पूर्व में स्थित होगा, क्योंकि यह नदी दूतों को तेजोभिभवन से पश्चिम की ओर जाने पर मिली थी।[2]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=तेजोभिभवन&oldid=274171" से लिया गया