राजपुर  

राजपुर नामक एक प्राचीन नगर का उल्लेख महाभारत, द्रोणपर्व[1] में हुआ है। महाभारत के इस उल्लेख में कर्ण का राजपुर पहुंचकर कांबोजों को जीतने का वर्णन है-

'स्वबाहुबलवीर्येण धार्तराष्ट्रजयैषिणा कर्णराजपुर गत्वा कांबोजा निर्जितास्तवया।'
'श्रीमद्राजपुरं नाम नगरं तत्र भारत, राजनः शतशस्तत्र कन्यार्थे समुमागमन्।'[4]
  • राजपुर के राजा चित्रांगदा की कन्या का हरण दुर्योधन ने कर्ण की सहायता से किया था।
  • कंबोडिया के प्राचीन वीरपुर का नाम भी राजपुर था। यह प्राचीन भारतीय उपनिवेश चंपापुरी के दक्षिणी प्रांत पांडुरंग की राजधानी थी।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. द्रोणपर्व 4-5
  2. ऐतिहासिक स्थानावली |लेखक: विजयेन्द्र कुमार माथुर |प्रकाशक: राजस्थान हिन्दी ग्रंथ अकादमी, जयपुर |संकलन: भारतकोश पुस्तकालय |पृष्ठ संख्या: 782 |
  3. ऐशेंट ज्योग्रेफी ऑव इंडिया, 192 पृ. 148
  4. महाभारत, शांतिपर्व, 4, 3

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=राजपुर&oldid=516490" से लिया गया