सप्तसारस्वत  

सप्तसारस्वत पुराणानुसार एक प्राचीन तीर्थ स्थान था, जो सरस्वती नदी के तट पर स्थित था।[1]

'सप्तसारस्वतं तीर्थं ततोगच्छेन्नराधिप, यत्र मंकणकः सिद्धो महर्षिर्लोकविश्रुतः।'[2]
'सप्त सारस्वते स्नात्वा अर्चयिष्यन्ति येतु माम्, न तेषां दुर्लभं किंचिदिहलोके परत्र च।'[3]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. ऐतिहासिक स्थानावली |लेखक: विजयेन्द्र कुमार माथुर |प्रकाशक: राजस्थान हिन्दी ग्रंथ अकादमी, जयपुर |संकलन: भारतकोश पुस्तकालय |पृष्ठ संख्या: 934 |
  2. महाभारत, वनपर्व, 83, 115, 116
  3. महाभारत, वनपर्व 83, 133

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=सप्तसारस्वत&oldid=504380" से लिया गया