साहस्त्रक  

साहस्त्रक का उल्लेख हिन्दू पौराणिक ग्रंथ महाभारत में हुआ है। महाभारत वन पर्व के अनुसार यह कुरुक्षेत्र की सीमा के अन्तर्गत एक प्रसिद्ध तीर्थ का नाम था।

  • इस तीर्थ में स्नान करने से सहस्त्र गोदान का फल प्राप्त होता है और जहाँ किये गये दान और उपवास का फल अन्यत्र किये गये दान और उपवास से हजार गुना अधिक होता है।[1]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=साहस्त्रक&oldid=556346" से लिया गया