शंबल  

विष्णुपुराण[1] में शंवलग्राम में भविष्य के कल्कि अवतार होने का उल्लेख है-

‘शंबलग्रामप्रधानब्राह्मणस्यविष्णुयशसोगृहेऽष्टगुणार्द्धिसमन्वितः कल्किरूपी जगत्यात्रावतीर्य स्वधर्मेषु चाखिलमेव संस्थापयिष्यति’।

कुछ लोगों के मत में शंबल ग्राम वर्तमान संभल है। जो की उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद ज़िले में स्थित है।

विस्तार में पढें:- सम्भल


टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. विष्णुपुराण 4,24,98

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=शंबल&oldid=291721" से लिया गया