हरिवर्ष  

हरिवर्ष प्राचीन भूगोल के अनुसार जंबूद्वीप का एक भाग या वर्ष।

  • विष्णु पुराण के वर्णन में जंबूद्वीपक अधीश्वर राजा आग्नीध्र के नौ पुत्रों में हरिवर्ष का भी नाम है।
  • इसके नाम पर ही संभवतः हरिवर्ष भूखण्ड का नाम प्रसिद्ध हुआ।[1] यहाँ निषध पर्वत स्थित था।
  • हरिवर्ष का मेरु पर्वत के दक्षिण की ओर माना गया है।
  • इसके तथा भारत के बीच में किंपुरुषवर्ष स्थित था-‘भारतं प्रथम वर्ष ततः किंपुरुषंस्मृतम्, हरिवर्ष तथैवान्यन्मेरोर्दक्षिणतो द्विज’।[2]
  • महाभारत सभापर्व में हरिवर्ष को मालसरोवर, गंधर्वों के देश और हेमकूट पर्वत ( कैलाश ) के उत्तर में स्थित माना गया है।
  • अर्जुन ने अपनी दिग्विजय यात्रा के प्रसंग में इस देश को भी विजित किया था।
  • यहां उन्होंने बहुत से मनोरम नगर, सुंदर वन तथा निर्मल जल वाली नदियां देखी थीं।
  • यहां के स्त्री-पुरुष बहुत सुंदर थे तथा भूमि रत्नप्रसवा थी।
  • यहां अर्जुन ने निषध पर्वत को भी देखा था।

-‘सारे मानसमासाद्य म्यविशत् फाल्गुनस्तथी,
तं हेमकूट राजेन्द्र समतिकम्य पांडवः,
हविर्ष विवेशश्र,
सैज्ञेन महतावृतः तत्र पार्थो ददर्शाथ बहूनि हि मनोरमान्,
नसरांइन वनादिचैव मदीश्च विमलोदकाः,
तान् सर्वाश्च दृश्ट्वा मुदायुक्तो धर्मजयः,
वशेचकेऽथरत्नानि लेभे च सुबहूनि च,
ततो निषधमासाद्य गिरिस्वानजयत् प्रभुः’।[3]

  • महाभारत[4] में हेमकूट के परे हरिवर्ष की स्थिति बताई गई है-‘हेमकूटात् परं चैव हरिवर्ष प्रचक्षते’।
  • हेमकूट को कैलाश पर्वत माना गया है- ‘हेमकूटस्तु समुहान् कैलासो नाम पर्वतः’।[5]
  • प्रसंग से हरिवर्ष उत्तरी तिब्बत तथा दक्षिणी चीन का समीपवर्ती भूख्रंड जान पड़ता है।
  • वर्तमान शिक्यांग का प्रदेश है जो पहले चीनी तुर्किस्तान कहलाता था।
  • महाभारत के हरिवर्ष के उत्तर में इलावृत का उल्लेख है जिसे जम्बूद्वीप का मध्य भाग बताया गया है।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. विष्णु॰ 2,1,16
  2. विष्णु॰ 2,2,12
  3. महाभारत सभापर्व 28,5 तथा आगे दाक्षिणास्य पाठ
  4. भीष्म. 6,8
  5. भीष्म 6,41

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=हरिवर्ष&oldid=500259" से लिया गया