अक्रूर  

अक्रूरजी कृष्ण और बलराम को मथुरा ले जाते हुए

अक्रूर एक प्रमुख यदुवंशी और कृष्ण के चाचा थे। वे वसुदेव के भाई बताए जाते हैं। कंस की सलाह पर श्रीकृष्ण और बलराम को यही वृन्दावन से मथुरा लाए थे। कंस का वध करने के पश्चात् कृष्ण इनके घर गए थे। वे अक्रूर को अपना गुरु मानते थे। अक्रूर की मृत्यु के उपरांत कृष्ण के पौत्र वज्र के रोकने पर भी इनकी पत्नियाँ नहीं रुकीं और वन में तपस्या करने के लिए चली गईं।

सत्राजित नामक यादव को सूर्य से मिली स्यमंतक मणि, जिसकी चोरी का कलंक श्रीकृष्ण को लगा था, इन्हीं के पास थी। ये डरकर मणि को लेकर काशी चले गए। स्यमंतक मणि की यह विशेषता थी कि जहां वह होती थी, वहां धन-धान्य भरा रहता था। अक्रूर के चले जाने पर द्वारका में अकाल के लक्षण प्रकट होने लगे। इस पर श्रीकृष्ण का अनुरोध मानकर अक्रूर द्वारका वापस चले आए। इन्होंने स्यमंतक मणि श्रीकृष्ण को दे दी। श्रीकृष्ण ने मणि का सार्वजनिक रूप से प्रदर्शन करके अपने ऊपर लगा चोरी का कलंक मिटाया।

तीर्थराजं हि चाक्रूरं गुह्यानां गुह्यभुत्तमम् ।

तत्फलं समवाप्नोति सर्व्वतीर्थावगाहनात् ॥
अक्रूरे च पुन: स्नात्वा राहुग्रस्त दिवाकरे ।

राजसूयाश्वमेधाभ्यां फलमाप्नोति मानव: ॥

अक्रूर श्वफलक और गांदिनी के पुत्र थे। स्कंद पुराणानुसार पूर्व जन्म में यह चंद्र नामक ब्राह्मण थे। हरिद्वार निवासी देवशर्मा नामक अत्रिकुलोत्पन्न ब्राह्मण के यह शिष्य तथा जामाता थे जिनकी गुणवती नामक ब्याही थी।

अक्रूर घाट

मथुरा और वृन्दावन के बीच में ब्रह्मह्रद नामक एक स्थान है। श्रीकृष्ण ने यहीं पर अक्रूर को दिव्य दर्शन कराए थे। ब्रज क्षेत्र का यह भी एक प्रमुख तीर्थ माना जाता है और वैशाख शुक्ल नवमी को यहाँ मेला लगता है। वृन्दावन आते हुए अक्रूर ने मार्ग में यमुना में कृष्ण तथा बलराम के दिव्य रूप के दर्शन किये अर्थात् भगवान अनंत की गोद में कृष्ण को देखा।[1]

अक्रूर तीर्थ

अक्रूर तीर्थ, सर्व तीर्थों के राजा एवं गोपनीयता के बीच में अति गोपनीय है। पुन: सूर्यग्रहण के दिन अक्रूर तीर्थ में स्नान करने से राजसूय अश्वमेध यज्ञ का फल प्राप्त होता है। इस स्थान पर श्री अक्रूर जी ने स्नान करते समय श्रीकृष्ण के विभूति दर्शन का लाभ प्राप्त किया था। कंस ने श्री महादेव जी को तपस्या से सन्तुष्ट कर एक धनुष प्राप्त किया था। श्री महादेव ने उनको आशीर्वादपूर्वक वरदान दिया था कि इस धनुष के द्वारा तुम बहुत से राज्यों का जय लाभ कर सकते हो। इस धनु्ष को कोई शीघ्र सरलता से तोड़ नहीं सकता। जो इस धनुष को तोड़ेगा उसके हाथों से ही तुम्हारी मृत्यु होगी। धनुष यज्ञ का संवाद कंस ने विभिन्न देश-विदेश में प्रचारित कर दिया। इधर श्रीकृष्ण-बलराम के अनुष्ठान में योगदान के लिये कंस ने श्री अक्रूरजी को गोकुल में प्रेषित किया तब अक्रूर जी श्रीकृष्ण और बलराम को रथ में बैठाकर कंस की राजधानी मथुरा की तरफ चल पड़े।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. हरि0 ब0 पु0, विष्णु पर्व, 25 26
  2. श्रीमद् भागवत, 10 ।39, 42, 49 ।
  3. ब्रह्म पुराण, 191-192 ।(अधोलिखित अंश से इतर श्रीमद् भागवत जैसा ही है।
  4. स्यातां यस्याहुकाक्रूरौ किं नु दु:खतरं तत: ।
    यस्य वापि न तौ स्यातां किं नु दु:खतरं तत: ॥10॥महाभारत शांति पर्व अध्याय-82
  5. भागवत(दशमस्कन्ध 38।39।40।56।57
  6. सूरसागर, दशम् स्कंध प0 3629-3651, 1645,4809
  7. कृष्णायन, अवतरण, मथुरा द्वारिका काण्ड
  8. प्रिय प्रवास, सर्ग 2।3
  9. द्वापर, पृ0 122-131

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=अक्रूर&oldid=612433" से लिया गया