Notice: Undefined offset: 0 in /home/bharat/public_html/gitClones/live-development/bootstrapm/Bootstrapmskin.skin.php on line 41
शंखचूड़ (दानव) - भारतकोश, ज्ञान का हिन्दी महासागर

शंखचूड़ (दानव)  

शंखचूड़ दानव भगवान श्रीकृष्ण का मित्र सुदामा था, जिसे राधा ने दानवी योनि में जन्म लेने का शाप दिया था। सुदामा श्रीकृष्ण का पार्षद था, जब श्रीकृष्ण विरिजा के साथ विहार कर रहे थे, सुदामा भी उनके साथ ही था। राधा को ज्ञात हुआ तो रुष्ट होकर वहाँ पहुँचीं। उसने कृष्ण को बहुत फटकारा। लज्जावश विरिजा तो नदी बन गई, किन्तु सुदामा ने क्रुद्ध होकर राधा से बात की। राधा ने क्रोधवश उसे सभा से निकाल दिया और दानवी योनि में जन्म लेने का शाप दिया। क्षणिक आवेग जब समाप्त हुआ तो राधा ने दयावश शाप की अवधि गोलोक के आधे क्षण की कर दी, जो कि मृत्यु लोक का एक मन्वंतर होता है। शापवश सुदामा शंखचूड़ नामक दानव हुआ।

देवताओं से युद्ध

गोलोक में भी शंखचूड़ तुलसी पर आसक्त था, अत: भूलोक में भी उसने तुलसी को प्राप्त करने के लिए तपस्या की। उसके पास हरि का मंत्र और कवच भी थे। तुलसी से विवाह होने के उपरान्त वह ऐश्वर्यपूर्वक रहने लगा। श्रीकृष्ण की प्रेरणा से शिव ने उस पर आक्रमण किया। शिव की अपरिमित सेना (जो कि देवताओं तथा भगवती से युक्त थी) के होते हुए भी शंखचूड़ परास्त नहीं हो रहा था। सब ने विचारा कि जब तक उसके पास हरि का मंत्र और कवच हैं और उसकी पत्नि पतिव्रता है, तब तक उसे परास्त करना असम्भव है।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

भारतीय मिथक कोश |लेखक: डॉ. उषा पुरी विद्यावाचस्पति |प्रकाशक: नेशनल पब्लिशिंग हाउस, नई दिल्ली |पृष्ठ संख्या: 301 |

  1. देवी भागवत, 9।19

संबंधित लेख

और पढ़ें

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://m.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=शंखचूड़_(दानव)&oldid=228985" से लिया गया